कार्यशाला में संचालकों को समझाए सुरक्षा के उपाय

कार्यशाला में संचालकों को समझाए सुरक्षा के उपाय

इंदौर। होटल, मॉल कोचिंग सेंटर तथा होस्टलों पर सुरक्षा के इंतजाम कैसे किए जाते हैं और क्या-क्या उपकरण होना चाहिए और इन उपकरणों को किस तरह से उपयोग करना चाहिए, इन सभी मुद्दों को लेकर नगर निगम और जिला प्रशासन ने एक कार्यशाला आयोजित की, लेकिन इस कार्यशाला को ज्यादा रिस्पांस नहीं मिला और कुछ ही संचालक इसमें शामिल हो सके। सोमवार को कलेक्टर कार्यालय में कोचिंग सेंटर और होस्टल के संचालकों की एक बैठक आयोजित हुई थी। इस बैठक में कलेक्टर लोकेश जाटव ने संचालकों के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने के निर्देश दिए थे। कलेक्टर के इस निर्देश पर नगर निगम ने मंगलवार को खंडवा रोड स्थित देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के सभाकक्ष पर एक कार्यशाला आयोजित की। इस कार्यशाला में सूरत हादसे से सबक लेते हुए शहर के कोचिंग क्लास संचालकों, होटलों, मॉल्स और होस्टल संचालकों को सुरक्षा संबंधित जानकारियां दी गई, लेकिन निगम की उक्त कार्यशाला को लेकर कोचिंग संचालकों और अन्य संचालकों ने कोई खास रुचि नहीं दिखाई। दरअसल, वह इसलिए क्योंकि इस वर्कशॉप में मात्र 20 से 25 ही संचालकों ने ही अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। इस संबंध में निगम के अपर आयुक्त देवेंद्रसिंह ने उपस्थिति को लेकर काफी नाराजगी दिखाई। उन्होंने साफ कहा कि संचालक नियमों को ताक में रखकर अपनी संस्थान संचालित करेगा, उस पर निगम ताले डाल देगा।