सेंसेक्स, निफ्टी पिछले स्तर पर बंद दूरसंचार कंपनियों के शेयर चमके

सेंसेक्स, निफ्टी पिछले स्तर पर बंद दूरसंचार कंपनियों के शेयर चमके

मुंबई। शेयर बाजारों में उतार-चढ़़ाव भरे कारोबार में सोमवार को प्रमुख सूचकांक करीब-करीब पिछले स्तर पर बंद हुए। दूरसंचार कंपनियों के शेयरों में लाभ के प्रभाव को वाहन तथा निजी बैंकों के शेयरों में गिरावट ने समाप्त कर दिया। सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर के कमजोर आंकडे तथा वाहनों की बिक्री में लगातार गिरावट से निवेशक सतर्क नजर आयें। इससे बैंक तथा वाहन कंपनियों के शेयर दबाव में रहे। इसके अलावा निवेशकों ने रिजर्व बैंक की बृहस्पतिवार को जारी होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले रक्षात्मक रुख अपनाया। उतार-चढ़़ाव भरे कारोबार में तीस शेयरों वाला बीएसई मामूली 8.36 अंक यानी 0.02 प्रतिशत की बढ़त के साथ 40,802.17 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 41,093.99 से 40,707.63 अंक के दायरे में रहा। वहीं दूसरी तरफ एनएसई निफ्टी 7.85 अंक यानी 0.07 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 12,048.20 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में भारतीय एयरटे को सर्वाधिक 3.67 प्रतिशत का लाभ हुआ। वहीं आर जियो की मूल कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर 2.28 प्रतिशत चढ़ा। दूरसंचार कंपनियों की नई शुल्क योजनाए तीन दिसंबर से अमल में आने की घोषणा से इनके शेयरों में तेजी आई। वोडाफोन-आइडिया का शेयर भी बीएसई में 14 प्रतिशत चढ़कर 7.79 रुपए यूनिट तथा एनएसई में 22.63 प्रतिशत मजबूत होकर 8.40 रुपए शेयर रहा। इसके अलावा एशिया पेंट्स, कोटक बैंक तथा मंिहंद्रा एंड मंिहंद्रा भी लाभ में रहे।

येस बैंक को बड़ा नुकसान

वहीं दूसरी तरफ येस बैंक को सर्वाधिक 6.22 प्रतिशत नुकसान हुआ। इसके अलावा बजाज फाइनेंस, ओएनजीसी, सन फार्मा, टाटा स्टील और मारुति में भी गिरावट रही। वाहन कंपनियों के कमजोर बिक्री आंकड़़ों का असर उनके शेयरों पर पड़ा। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘चीन में उम्मीद से बेहतर विनिर्माण के आंकडे के कारण सकारात्मक धारणा के बावजूद घरेलू बाजार सीमित दायरे में रहा। इसका कारण जीडीपी वृद्धि के कमजोर आंकड़ेÞ, वाहन बिक्री में नरमी है। इसके अलावा इस सप्ताह मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले निवेशक थोडे सतर्क दिखे। गिरावट चौतरफा रही जबकि आक्रामक शुल्क समीक्षा के कारण दूरसंचार कंपनियों के शेयरों में तेजी रही। एशिया के अन्य बाजारों में तेजी रही। चीन में बेहतर विनिर्माण आंकडेÞ का असर इन बाजारों पर पड़ा। इसके अलावा निवेशकों को शुल्क वृद्धि के लिये 15 दिसंबर की समयसीमा से पहले अमेरिका-चीन के बीच व्यापार समझौते की उम्मीद है।