सौ रुपए में उपलब्ध होती हैं रेल चिकित्सक की सेवाएं

सौ रुपए में उपलब्ध होती हैं रेल चिकित्सक की सेवाएं

जबलपुर ।   यदि रेल के सफर में यात्री का स्वास्थ्य बिगड़ता है तो वह मात्र 100 रुपए देकर रेलवे के डॉक्टर की सेवाएं प्राप्त कर सकते हैं। इसमें दवाएं भी शामिल हैं। अब तक ये सेवाएं मुμत थीं मगर विगत 4 माह पूर्व रेलवे ने इस व्यवस्था में मामूली संशोधन किया है। यात्री डॉक्टर के लिए टीटीई या ट्विटर के माध्यम से उपचार की मांग कर सकते हैं। नई व्यवस्था के तहत अब चलती ट्रेन में तबीयत खराब होने पर डॉक्टर को बुलाने के लिए आपको 100 रुपये देने होंगे। रेलवे बोर्ड ने इस व्यवस्था को पूरे भारतीय रेलवे में शुरू किया है। इसमें स्टेशन पर मिलने वाले प्राथमिक उपचार पाने के लिए अब यात्रियों को 100 रुपए डॉक्टरी फीस और दवा के लिए देने होंगे। बोर्ड ने इसको लेकर सभी जोनों में पत्र भेज दिया है। पूर्व रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने चलती ट्रेन में सुविधा के नाम पर इस व्यवस्था को शुरू किया था।

पहले 20 रुपए था शुल्क

कई बार महिलाओं की प्रसव संबंधी परेशानियों की वजह से ट्रेन को भी रोका गया है और इलाज के बाद ही ट्रेन को रवाना किया गया है।पहले 20 रुपए प्रति मरीज फीस निर्धारित थी। यह राशि बहुत कम थी। रेलवे डॉक्टर भी इसे नहीं लेते थे। वहीं, इसके लिए उन्हें कोई रसीद भी नहीं मिलती थी। स्टेशन अधिकारियों के मुताबिक यात्री अगर यात्रा के दौरान उपचार की सुविधा या डॉक्टर की सहायता लेते हैं तो उनको अब 100 रुपए की रसीद भी दी जाएगी। इसके लिए टीटीई अपनी ईएफटी एक्सेज फेयर टिकट बुक से रसीद काटकर मरीजों को देगा।