शाम की बिकवाली से शेयर बाजार गिरकर बंद

शाम की बिकवाली से शेयर बाजार गिरकर बंद

मुंबई। शाम के कारोबार में बिकवाली के चलते शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार गिरकर बंद हुए। वैश्विक चुनौतियों और कमाई के मोर्चे पर अनिश्चितता के बीच निवेशकों का रु ख जोखिम को लेकर सावधानपूर्ण रहा। ब्रोकरों के अनुसार निवेशकों ने खुदरा मुद्रास्फीति और औद्योगिक उत्पादन के आंकडेÞ जारी होने से पहले सतर्क रुख अपनाया। बीएसई का तीस शेयरों वाला सूचकांक सेंसेक्स 86.88 अंक अथवा 0.22 प्रतिशत की गिरावट के साथ 38,736.23 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान इसमें 337 अंक का उतार-चढ़ाव आया। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निμटी 30.40 अंक अथवा 0.26 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,552.50 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह नीचे 11,538.60 तथा ऊंचे में 11,639.55 अंक के दायरे में गया। बजट पेश होने के बाद शुक्रवार को समाप्त हुए हμते में सेंसेक्स कुल 777.16 अंक अथवा 1.96 प्रतिशत और निμटी 258.65 अंक अथवा 2.18 प्रतिशत नुकसान में रहे। वैश्विक व्यापार तनाव और भू- राजनीतिक हालातों के मुश्किल दौर से गुजरने के बीच आर्थिक आंकड़ों में सुस्ती की संभावना के चलते वैश्विक शेयर कारोबार में भी ज्यादा उतार-चढ़़ाव नहीं देखा गया। घरेलू स्तर पर भी निवेशक मुद्रास्फीति और औद्योगिक उत्पादन का आंकड़ा आने से पहले थोडेÞ सतर्क दिखे। भारत और अमेरिका के बीच जारी व्यापार वार्ता से भी बाजार में घबराहट रही। सेंसेक्स में नुकसान में रहने वालों शेयरों में बजाज फाइनेंस, ओएनजीसी, इंडसइंड बैंक, पॉवरग्रिड, एल एंड टी, एक्सिस बैंक, एनटीपीसी, भारती एयरटेल, एचडीएफसी बैंक तथा कोटक महिंद्रा बैंक शामिल हैं। इनमें 2.08 प्रतिशत तक की गिरावट आयी। वहीं दूसरी तरफ वेदांता, सन फार्मा, टाटा स्टील, एशियन पेंट्स, हीरो मोटो कार्प और यस बैंक में 2.44 प्रतिशत तक की तेजी आई। इंफोसिस के तिमाही परिणाम से पहले कंपनी का शेयर 0.87 प्रतिशत मजबूत हुआ। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेस के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही के परिणामों में नरमी की संभावना रहने के चलते बाजार में अस्थिरता बनी हुई है, जिसकी वजह से भविष्य में कमाई के कम रहने का जोखिम बढ़ा है। निवेशकों का पूरा ध्यान आज जारी होने वाले खुदरा मुद्रास्फीति आंकड़ों पर रहा। मौजूदा समय में बाजार मध्यावधि में नीतिगत ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद कर रहा है।’’ इसके अलावा एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई कंपोजिट सूचकांक, हैंग सेंग, निक्की और कोस्पी लाभ में रहे। यूरोप के प्रमुख बाजारों में भी शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख रहा। इसी बीच कारोबार के दौरान डॉलर के मुकाबले नीचे आते हुए रुपया 13 पैसे टूटकर 68.57 पर पहुंच गया।