इकलौते भाई के डूबने की खबर से बदहवास हुई बहन, बार-बार कह रही थी मुझे भाई से मिला दो

इकलौते भाई के डूबने की खबर से बदहवास हुई बहन, बार-बार कह रही थी मुझे भाई से मिला दो

भोपाल  । कलिया सोत डैम में नहाते समय डूबने से मृत स्पर्श और रितिक फुफेरे भाई थे। दोनों ने बुआ के लड़के सुमित के साथ घूमने का प्लान बनाया था। स्पर्श और सुमित साथ ही रहते थे। स्पर्श मिसरोद स्थित इंडस टाउन व रितिक गोपाल नगर, पिपलानी में रहता था। दोपहर करीब 2 बजे परिजनों को जैसे ही डूबने की सूचना मिली, तो वह कलियासोत डैम पहुंच गए थे। रितिक के पिता की पहले ही मौत हो चुकी है, उसकी मां और तीन बहनें ही हैं। स्पर्श के पिता मंडीदीप स्थित एचईजी फैक्ट्री मेें काम करते हैं और मां निजी स्कूल में शिक्षिका हैं। रितिक की बहन आकांक्षा का बुरा हाल था। जिस वक्त गोताखोर शव तलाश रहे थे, वह बार- बार पानी मेें जाने की कोशिश कर रही थी। वह बार-बार यही कह रही थी कि मुझे भाई से मिला दो।

स्पर्श के परिजन शादी में गए हुए हैं महाराष्ट्

स्पर्श दो भाइयों में सबसे बड़ा था। उसके माता-पिता महाराष्ट्र में एक शादी समारोह में गए हैं। पिता अजय अग्निभोज मंडीदीप स्थित एचईजी कंपनी में कर्मचारी हैं, जबकि मां सुषमा मदर टेरेसा स्कूल इंडस टाउन में शिक्षिका हैं। स्पर्श का छोटा भाई हर्ष छठवीं में पढ़ता है। स्पर्श कॉर्मल कांवेंट स्कूल रतनपुर में दसवीं कक्षा में पढ़ता था।

स्पर्श को डूबते देखा तो उसे पकड़ने की कोशिश की, लेकिन बचा नहीं पाया

दोपहर करीब एक बजे मैं, स्पर्श और रितिक एक्टिवा से कलियासोत डैम शिव मंदिर पहुंचे थे। वहां स्कूटी खड़ी करने के बाद मैं डैम के किनारे पत्थर पर बैठकर मोबाइल पर गेम खेलने लगा। वहीं रितिक और स्पर्श डैम में नहाने चले गए थे। कुछ देर बाद मैंने देखा कि स्पर्श डूब रहा है और रितिक भी दिखाई नहीं दे रहा है। मैं दौड़कर उनके पास पहुंचा और स्पर्श को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन उसे निकाल नहीं पाया। मैं घबरा गया और दौड़ते हुए शिव मंदिर के पुजारी के पास पहुंचा और उन्हे घटना के बारे में पूरी जानकारी दी। इसके बाद पुजारी ने नगर निगम के गोताखोर और डायल 100 को दोनों के डूबने की सूचना दी।