एसएसपी अचानक पहुंचीं एमवाय अस्पताल,जांची सुरक्षा व्यवस्था

एसएसपी अचानक पहुंचीं एमवाय अस्पताल,जांची सुरक्षा व्यवस्था

इंदौर बुधवार को इंदौर एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र अचानक एमवाय अस्पताल पहुंची। मिश्र ने पूरी अस्पताल का निरीक्षण किया और कहां-कितने सुरक्षा गार्ड है, सुरक्षा के क्या इंतजाम है? जैसी व्यवस्थाओं पर ध्यान दिया। उनके अचानक अस्ताल पहुंचने से अस्पताल के प्रभारी भी सकते में आ गए। एसएसपी ने एमवाय अस्पताल की चौकी देखी, जेल वार्ड का भी निरीक्षण भी किया। इस दौरान अधीक्षक डॉ. एडी भटनागर ने कहा- मैडम हमारे अस्पताल के सिक्योरिटी गार्ड को पुलिस विभाग द्वारा प्रशिक्षण दिया जाएं, ताकि वे हर समस्या का सामना कर सकें। इस पर उन्होंने आश्वासन देते हुए हां कहा है। गौरतलब है कि पिछले दिनों एमवाय अस्पताल में मरीज (प्रसूता) के परिजनों ने जूनियर डॉक्टरों के साथ मारपीट कर दी थी। महिला डॉक्टर पर भी हाथ उठा लिया था। इस बात से नाराज जूनियर डॉक्टरों ने प्रदर्शन कर विरोध जताया था। स्त्री रोग विभाग में हुए इस विवाद के बाद गुस्साए डॉक्टरों ने काम बंद कर दिया था और अपनी सुरक्षा की मांग करते हुए परिजन के खिलाफ डॉक्टर्स प्रोटेक्शन एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज करवाने की मांग की थी।

ये था मामला-शनिवार को एमवाय अस्पताल के वार्ड-3 में भर्ती जून रिसाला निवासी प्रेमलता पति के डिस्चार्ज की प्रक्रिया के दौरान जूनियर डॉक्टर से विवाद हुआ। इसके बाद डॉक्टरों का प्रतिनिधि मंडल अधीक्षक कार्यालय शिकायत करने पहुंचा। प्रतिनिधि मंडल में शामिल जूनियर डॉक्टर पूजा वर्मा ने कहा कि हम लगातार 36 घंटे काम करते है। ऐसे में अगर थोड़ी भी देर हो जाए तो परिजन बदतमीजी करते है। सुरक्षा इंतजाम नाकाफी है। परिजन ने हमारी साथी प्रतिभा पर हाथ उठाया। उससे कहा कि तुम मुफ्त में काम नहीं करते हो, तुम्हारे बाप का अस्पताल नहीं है। गंदी गालियां देते है। हम यहां दस साल की मेहनत के बाद दिन- रात पढ़ाई कर आए है। किसी को कोई खौफ नहीं है। अगर डॉक्टर काम कर रहे हैं तो उन्हें इज्जत मिलना चाहिए।