शेयर बाजार की तेजी पर लगा ब्रेक, सेंसेक्स 194 अंक और निफ्टी 59 अंक नीचे

शेयर बाजार की तेजी पर लगा ब्रेक, सेंसेक्स 194 अंक और निफ्टी 59 अंक नीचे

मुंबई। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पूँजी बाजार में रही गिरावट के साथ ही घरेलू स्तर पर आॅटो और बैंकिंग समूहों की दिग्गज कंपनियों में हुयी बिकवाली के दबाव में घरेलू शेयर बाजार में तीन दिन से जारी तेजी पर बुधवार को ब्रेक लग गया तथा बीएसई का सेंसेक्स 193.65 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 59.40 अंक गिरकर बंद हुआ। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 193.65 अंक उतरकर 39,756.81 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 59.40 अंक गिरकर 11,906.20 अंक पर रहा। इस दौरान छोटी और मझौली कंपनियों में बिकवाली देखी गयी जिससे बीएसई का मिडकैप 0.79 प्रतिशत फिसलकर 14,922.46 अंक पर और स्मॉलकैप 0.48 प्रतिशत लुढ़ककर 14,548.72 अंक पर रहा। बीएसई का सेंसेक्स करीब 24 अंक की तेजी के साथ 39,974.18 अंक पर खुला और देखते ही देखते यह 39,982.10 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। इसी दौरान शुरू हुयी बिकवाली के दबाव में यह सत्र के दौरान 39,623.53 अंक के निचले स्तर तक उतर गया। अंत में यह पिछले दिवस के 39,950.46 अंक की तुलना में 0.48 प्रतिशत अर्थात 193.65 अंक फिसलकर 39,756.81 अंक पर रहा। एनएसई का निफ्टी मामूली गिरावट लेकर 11,962.45 अंक पर खुला और यही इसका दिवस का उच्चतम स्तर भी रहा। इस दौरान बिकवाली के दबाव में यह 11,866.35 अंक के निचले स्तर तक फिसला। आखिर में निफ्टी पिछले दिवस के 11,965.60 अंक की तुलना में 0.50 प्रतिशत अर्थात 59.40 अंक गिरकर 11,906.20 अंक पर रहा। निफ्टी में शामिल 50 कंपनियों में से 14 बढ़त में और 35 गिरावट में रहे जबकि एक में कोई बदलाव नहीं हुआ। बीएसई में शामिल समूहों में से रियल्टी में 1.94 प्रतिशत, कैपिटल गुड्स में 1.15 प्रतिशत, आॅटो में 1.12 प्रतिशत, बैंकिंग में 1.01 प्रतिशत और तेल एवं गैस समूह में 0.20 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी। इस दौरान धातु समूह में सबसे अधिक 0.48 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुयी। बीएसई में कुल मिलाकर 2,679 कंपनियों में कारोबार हुआ जिनमें 1,029 बढ़त में और 1,488 गिरावट लेकर बंद हुये जबकि 162 उतार-चढ़ाव के बीच पिछले दिवस के स्तर पर टिकने में सफल रहे।

चीन और अमेरिका के बीच बढ़ते व्यापार तनाव का असर वैश्विक स्तर पर भी शेयर बाजारों पर देखा गया। अधिकांश बड़े शेयर बाजार गिरावट में रहे या फिसलकर खुले हैं। यूरोप में शुरुआती कारोबार में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.60 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 0.45 प्रतिशत की गिरावट में रहा। एशिया में हांगकांग का हैंगसेंग 1.73 प्रतिशत, चीन का शंघाई कंपोजिट 0.56 प्रतिशत, जापान का निक्की 0.35 प्रतिशत और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.14 प्रतिशत उतरकर बंद हुआ। 

सेंसेक्स में शामिल 30 कंपनियों में  से 23 लाल निशान में बंद हुये जबकि सात बढ़त बनाने में सफल रहे। गिरावट लेकर बंद होने वाली कंपनियों में येस बैंक 3.34 प्रतिशत, मारुति सुजुकी 1.79 प्रतिशत, टाटाएमटीआरडीवीआर 1.71 प्रतिशत, कोटक महिंद्रा बैंक 1.65 प्रतिशत, हीरो मोटोकॉर्प 1.55 प्रतिशत, बजाज आॅटो 1.38 प्रतिशत, इंडसइंड बैंक 1.23 प्रतिशत, बजाज फिनसर्व 1.05 प्रतिशत, एलएंडटी 1.02 प्रतिशत, टाटा मोटर्स 0.97 प्रतिशत, स्टेट बैंक 0.91 प्रतिशत एयरटेल 0.91 प्रतिशत, आईसीआईसीआई बैंक 0.82 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक 0.81 प्रतिशत, महिंद्रा एंड महिंद्रा 0.81 प्रतिशत, कोल इंडिया 0.71 प्रतिशत, पावरग्रिड 0.70 प्रतिशत, एनटीपीसी 0.63 प्रतिशत, एक्सिस बैंक 0.32 प्रतिशत, एचडीएफसी 0.24 प्रतिशत, इंफोसिस 0.12 प्रतिशत, एचसीएलटेक 0.08 प्रतिशत और एशियन पेंट््स 0.05 प्रतिशत शामिल हैं। सेंसेक्स में बढ़त बनाने वाली कंपनियों में टाटा स्टील 2.60 प्रतिशत, ओएनजीसी 0.86 प्रतिशत, वेदांता 0.50 प्रतिशत, सन फार्मा 0.47 प्रतिशत, टीसीएस 0.25 प्रतिशत, रिलायंस इंडस्ट्रीज 0.19 प्रतिशत और हिन्दुस्तान यूनिलीवर 0.16 प्रतिशत शामिल हैं।