150 रुपए का एन-95 मास्क बाजार में बिक रहा 400 रु. में

150 रुपए का एन-95 मास्क बाजार में बिक रहा 400 रु. में

शहर में कोरोना का खौफ : 5 रुपए का साधारण मास्क 25 रुपए में बेचा जा रहा
कोरोना वायरस ने भले ही शहर में पैर न पसारे हो, लेकिन इसके डर से लोग बचाव के रास्ते अपनाने में जुट गए। शहर में अचानक मास्क की बिक्री में उछाल आ गया है। फलस्वरूप इनके दामों में अचानक भारी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। एशिया के सबसे बड़े बाजारों में शुमार इंदौर दवा बाजार का ‘पीपुल्स समाचार’ ने कोरोना संक्रमण के चलते इसके बचाव में उपयोग होने वाले उपकरणों का जायजा लिया। इन उत्पादों में सर्जिकल मास्क, एन 95 मास्क और सेनेटाइजर्स की स्थिति जांची गई। इन दुकानों पर जहां 5 रुपए का सर्जिकल मास्क 20 से 30 रुपए, वहीं 150 रुपए का एन-95 मास्क 400 रुपए तक बेचा जा रहा है। यही नहीं, अधिकतर दुकानों पर एन 95 मास्क की उपलब्धता भी नहीं पाई गई। हाथों को कीटाणुमुक्त रखने वाले सेनेटाइजर की कीमतों में भी बढ़ोतरी देखी गई।
दिल्ली-मुंबई से भारी मांग
स्थानीय व्यापारियों का दावा है कि दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों से इन उपकरणों की भारी मांग आ रही है, जिसकी वजह से बाजार में इन उत्पादों की उपलब्धता में कमी आ रही है । व्यापारियों ने इस बात से भी इंकार नहीं किया कि कोरोना वायरस के दिन प्रतिदिन बढ़ते संक्रमण की वजह से उसकी रोकथाम में उपयोगी उत्पादों का व्यापारी बड़ी मात्रा में भंडारण भी कर रहे हैं, जिसके कारण इन उत्पादों की उपलब्धता में कमी आ रही है। 
कीमतें नियंत्रित और कालाबाजारी नहीं करने के निर्देश : सीएमएचओ -इस संबंध में जब सीएमएचओ प्रवीण जड़िया से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग ने तमाम ड्रग इंस्पेक्टरों को जरूरत से ज्यादा भंडारण नहीं करने, निर्धारित कीमतों से ज्यादा कीमत नहीं वसूलने को लेकर निर्देश जारी कर दिए हैं।
इटली और दुबई से लौटे दो संदेहियों के रक्त नमूने परीक्षण के लिए भेजे
इंदौर। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते गुरुवार को दो संदेहियों को अस्पताल में भर्ती किया गया है। 23 वर्षीय एक संदेही पुरुष को निजी चिकित्सालय  और 23 वर्षीय युवती को एमवाय अस्पताल में भर्ती किया है। दोनों के रक्त नमूने पुणे की प्रयोगशाला भेज गए हैं। मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि युवक दुबई से लौटा है और युवती इटली से स्वदेश लौटी है। दोनों को एहतियातन भर्ती किया गया है। इसके पहले 7 संदेहियों के रक्त नमूने पुणे की वायरोलॉजी लैब परीक्षण के लिए भेजे गए थे। सातों संदेहियों की परीक्षण रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। सभी संदेहियों को प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। सीएमएचओ ने बताया कि इसके पहले राज्य सरकार द्वारा विदेशों से लौटे 74 संदेहियों की भी सूची प्रदान की गई थी। इनकी स्क्रीनिंग की जा चुकी है। अभी  तक किसी में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई। 
जरूरत होने पर ही करें मास्क का इस्तेमाल- जड़िया ने बताया कि आमतौर पर मास्क की जरूरत नहीं है। जब जरुरी हो, तभी मास्क का उपयोग करें। साधारण मास्क का उपयोग तब करें, जब बहुत भीड़भाड़ वाले इलाके में जा रहे हों।
मांग बढ़ने से कीमतों में उछाल
कोरोना संक्रमण की आहट से पूरे देश में संक्रमण की रोकथाम में कारगर मास्क और अन्य उत्पाद के दाम बढ़ गए हैं। लिहाजा विक्रेता को अधिक कीमत चुकानी पड़ रही है। यही वजह है कि उपभोक्ता तक उत्पाद महंगे दामों में पहुंचे रहे हैं। 
-विनय बाकलीवाल,अध्यक्ष,ड्रग केमिस्ट एसोसिएशन,इंदौर
एमआरटीबी चेस्ट सेंटर पहुंचे कलेक्टर, तैयारियों का लिया जायजा
इंदौर।  नोबल कोरोना वायरस के सर्विलेंस, संदिग्ध मरीजों की स्क्रीनिंग, सामुदायिक तैयारी एवं जागरूकता के संबंध में कलेक्टर लोकेश जाटव ने गवर्नमेंट एमआरटीबी चेस्ट सेंटर की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। उल्लेखनीय है कि एहतियात के तौर पर सेंटर में कोरोना वायरस से संबंधित एक आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की गई है। इंदौर में 18 निजी अस्पतालों में कोरोना वायरस से बचाव के लिए चिकित्सकीय व्यवस्था के इंतजाम किए गए हैं। एमआरटीबी अस्पताल में राउंड-द-क्लॉक हेल्प डेस्क तथा  चिकित्सकों, नर्सों ,वार्डबॉय एवं दवाइयों की उपलब्धता तय की गई है। एमजीएम मेडिकल कॉलेज की डीन ज्योति बिंदल तथा सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया को जिम्मेदारी सौंपी गई है।  उन्होंने जनता से अपील की है कि कोरोना वायरस के संबंध में केवल  स्वास्थ्य विभाग, आयुष विभाग, वर्ल्ड हेल्थ आर्गनाइजेशन से संबंधित  दिशा-निर्देशों का ही पालन करें। 
आयुष विभाग ने बताए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय
एक लीटर पानी में 10 ग्राम षडंग पाउडर डालकर उबालें। आधा रह जाने पर प्यास लगने पर पीयें।
सशंमनी वटी 500 मिलीग्राम दिन में 2 बार लें।  
5 ग्राम त्रिकटु पाउडर, 3 से 5 तुलसी की पत्तियां एक लीटर पानी में डालकर उबालें। आधा रहने पर आवश्यकता अनुसार घूंट-घूंट कर पीयें। 
होम्योपैथिक दवाओं से रोग प्रतिरोधक चिकित्सा
आर्सेनिकम एल्बम 30 को कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ रोग निरोधी दवा के रूप में अपनाया जा सकता है। 
यूनानी रोग प्रतिरोधक चिकित्सा
शरबत उन्नाब- 10-20 मिली दिन में दो बार 
त्रियांक नजला 5 ग्राम दिन में दो बार लें।