जल्द ही मिलेगा 10 लाख मल्टी मोल्ड हैन्ड ग्रेनेड बनाने का आॅर्डर OFK को

जल्द ही मिलेगा 10 लाख मल्टी मोल्ड हैन्ड ग्रेनेड बनाने का आॅर्डर OFK  को

जबलपुर ।  चंडीगढ़ के प्रूफ रेंज में मल्टी मोड हैन्ड ग्रेनेड के दूसरे चरण का परीक्षण सफल रहा है। इसके साथ यह लगभग तय हो गया है कि जल्द ही आॅर्डिनेंस फैक्ट्री खमरिया(ओएफके) को 10 लाख हैन्ड ग्रेनेड बनाने का आॅर्डर मिलेगा। भारतीय सेना हैन्ड ग्रेनेड को इस्तेमाल की दृष्टिकोण से पहले ही पंसद कर चुकी है। बताया जाता है कि भारतीय सेना के लिए ओएफके में तैयार हुआ आधुनिक तरीके का मल्टी मोल्ड हैन्ड ग्रेनेड का पहला परीक्षण जबलपुर स्थित आर्मी सेंटर में ही किया गया था। हैन्ड ग्रेनेड में बारूद की क्वालिटी के साथ ही उस पर चढ़ाया गया खोल भी विशेष तकनीक से तैयार हुआ है। हैन्ड ग्रेनेड अक्सर नमी के दौरान खराब हो जाते थे, इस पर की गई विशेष तरह की कोटिंग के कारण अब नमी भी हैन्ड ग्रेनेड को खराब नहीं कर पाएगी।

हाथ के अलावा लॉन्चर से भी चलाया जा सकेगा

चंडीगढ़ प्रूफ रेंज में करीब 300 मल्टी मोल्ड हैन्ड ग्रेनेड का परीक्षण किया गया है। निर्धारित टारगेट पर नतीजे आशा के अनुरूप पाए गए। यह भी कहा जाता है कि यह ग्रेनेड सिर्फ हाथ से ही नहीं लॉन्चर गन से भी इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके इलेक्ट्रॉनिक सर्किट को भी अत्याधुनिक बनाया गया है।

माइनस तापमान के बीच होगा एक और परीक्षण

जानकारों का कहना है कि सेना को किसी भी तरह का नया उत्पाद सौंपने के पहले कई प्रकार के परीक्षणों से परखा जाता है। इसी कड़ी के तहत मल्टी मोल्ड हैन्ड ग्रेनेड को अगली बार ठंड के मौसम में या अत्याधिक ठंडे मौसम में परखा जाना है। परीक्षण के लिए ऐसे स्थान का चयन किया जाएगा, जहां तापमान माइनस मे पहुंच जाएगा। रक्षा सूत्रों का कहना है कि हैन्ड ग्रेनेड जिस क्वालिटी का बना है, हर परीक्षण में खरा ही उतरेगा।