महाराष्ट्र राष्ट्रपति शासन की ओर : भाजपा, क्या यह विधायकों को धमकी है : शिवसेना

महाराष्ट्र राष्ट्रपति शासन की ओर : भाजपा, क्या यह विधायकों को धमकी है : शिवसेना

मुंबई। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच बयानबाजी तेज हो गई है। शनिवार को शिवसेना सांसद संजय राउत ने भाजपा नेता सुधीर मुनगंटीवार के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भाजपा क्या विधायकों को धमकी दे रही है? दरअसल, शुक्रवार को मुनगंटीवार ने कहा था कि राज्य राष्ट्रपति शासन की ओर बढ़ रहा है। राउत ने कहा, ‘राज्य में सरकार के गठन में देरी हो रही है और सत्ताधारी पार्टी का एक मंत्री यह कहे कि सरकार गठित नहीं हुई तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू हो सकता है। क्या यह चुने हुए विधायकों को धमकी है? हालांकि, विवाद बढ़ने के बाद शनिवार को मुनगंटीवार ने कहा- मीडियाकर्मियों ने उनसे पूछा था कि अगर समय से सरकार का गठन नहीं होता तो क्या होगा? संविधान के मद्देनजर मैंने कहा था कि राष्ट्रपति शासन लागू होगा। बाद में शिवसेना ने कहा कि वह अभी भी गठबंधन धर्म का पालन करेगी। मानिए, अगर एक टीचर, छात्र के सवाल का जवाब देता है तो क्या उसे चेतावनी मानना चाहिए?

सोनिया को पत्र, शिवसेना के साथ बनानी चाहिए सरकार

कांग्रेस सांसद हुसैन दलवई ने पार्टी की अंतरिम कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को खत लिखा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और एनसीपी को शिवसेना के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनानी चाहिए।

निभाना होगा गठबंधन धर्म

वहीं शनिवार को एक बार शिवसेना का रुख नरम दिखा। शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा, सेना ने गठबंधन में रहते हुए विधानसभा चुनाव लड़ा था और हम आखिरी वक्त तक गठबंधन धर्म का पालन करेंगे। उन्होंने दलवई के सोनिया को पत्र लिखने के कदम का स्वागत किया है।