10 सालों में तीन गुना हो गई नगर निगम की टैक्स वसूली

10 सालों में तीन गुना हो गई नगर निगम की टैक्स वसूली

जबलपुर ।  नगर निगम द्वारा शहर के नागरिकों से लिया जाने वाला संपत्ति व जलशुल्क सहित अन्य टैक्स 10 सालों में वसूली की राशि 3 गुनी तक बढ़ी है। वर्ष 2011 में वसूली 78 करोड़ थी जो कि मौजूदा साल के लक्ष्य 406 करोड़ तक पहुंच गई है। हालाकि अब तक ननि 1अरब 05 करोड़ रुपए वसूल चुका है और बाकी 69 दिन में उसे लक्ष्य पूरा करने के लिए 301 करोड़ की राशि और वसूलनी है। नगर निगम आम नागरिकों को पेयजल,सड़क,नाली,प्रकाश आदि की व्यवस्थाएं करता है। इसके लिए उसे राशि की जरूरत होती है जो वह नगर निगम सीमा में रहने वाले नागरिकों से संपत्तिकर व जलशुल्क,नक्शा शुल्क,दुकान लाइसेंस,नामांतरण आदि मदों से वसूलता है। बीते आठ सालों में ननि ने अपनी आय बढ़ाकर 3 गुनी कर ली है।

निगमायुक्त ने की समीक्षा, दिए टारगेट

निगमायुक्त आशीष कुमार लगातार राजस्व विभाग की बैठक ले रहे हैं और टैक्स वसूली पर पूरा ध्यान दे रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि हर हाल में वसूली का लक्ष्य पूर्ण होना चाहिए। दरअसल अब वित्तीय वर्ष समाप्ति में मात्र 69 दिन शेष हैं। इस अवधि में ननि को टैक्स के रूप में 301 करोड़ रुपए वसूलने हैं। आगामी दिनों में राजस्व अमला टैक्स वसूली में तेजी ला सकता है।

1 जनवरी से 7 प्रतिशत अधिभार

नगर निगम ने कर चुकाने के लिए 31 दिसंबर तक का समय दिया था,जिन करदाताओं ने कर नहीं दिया है उनसे बकाया कर पर 7 प्रतिशत अधिभार लगाकर वसूली की जानी है। इसके लिए देयक,मोबाइल फोन से कालिंग व मैसेज भेजे जा रहे हैं। हर वार्ड में राजस्व अमला घर-घर भी पहुंच रहा है।

खाली प्लॉटों पर भी नजर

लंबे समय से खाली प्लॉटों पर भी नगर निगम की नजर है। इनके मालिकान से भूमि का टैक्स वसूला जाना है। शहर में करीब 30 हजार खाली प्लॉट बताए जा रहे हैं। नई संपत्तियों पर भी नजर है। इसके अतिरिक्त नक्शे से अधिक निर्माण या बिना नक्शा पास कराए किए गए निर्माण पर भी टैक्स अधिरोपित करने का काम हो रहा है।

राजस्व विभाग टैक्स वसूली के लिए जुटा हुआ है। निगमायुक्त के निर्देश पर अब बकाया टैक्स वसूली के लिए जुटना है। इस बार लक्ष्य 406 करोड़ का दिया गया है। -पीएन सनखेरे, उपायुक्त,राजस्व,ननि।