ढाई साल की बेटी को पति के पास छोड़ जा रही थी इंदौर, ट्रेनिंग के बाद मिलना था प्रमोशन

ढाई साल की बेटी को पति के पास छोड़ जा रही थी इंदौर, ट्रेनिंग के बाद मिलना था प्रमोशन

भोपाल। भोपाल से इंदौर जाते समय नेक्सा कार कंपनी की महिला कर्मचारी समेत पांच लोगों की कार सोमवार तड़के सीहोर के पास एक नाले में गिर गई। चार के शव बरामद कर लिए गए थे। महिला कर्मचारी का पता नहीं चल सका। इस हादसे के बाद परिजन, दोस्त और साथी कर्मचारी सदमे में हैं। पांचों के घरों पर मातम पसरा हुआ है। महिला कर्मचारी अपनी ढाई साल की बेटी को पति के पास छोड़कर ट्रेनिंग कार्यक्रम में शामिल होने के लिए निकली थी। ट्रेनिंग के बाद उसे प्रमोशन भी मिलने वाला था। परिजन बोलेयकीन नहीं हो रहा तनिष्का नहीं रहीं जानकारी के अनुसार, राजधानी के गोविंद गार्डन इलाके में रहने वाली तनिष्का तलरेजा पिल्लई (26) नेक्सा कार कंपनी में काम करती थीं। तीन महीने पहले तक वह जीवन मोटर्स में थीं। उनके पति जीवन मोटर्स में सीनियर मैनेजर हैं। वह सोमवार की सुबह अपनी ढाई साल की बेटी भव्या को पति के पास छोड़कर इंदौर के लिए रवाना हुई थीं। चचेरे भाई कमल कुकरेजा ने बताया कि तनिष्का को ट्रेनिंग के बाद प्रमोशन मिलने वाला था, इसलिए उसके लिए यह डबल खुशी की बात थी। हादसे की सूचना पर पति सीहोर रवाना हो गए। उनका कहना है कि इस घटना से पूरा परिवार सदमे में है।

पत्नी ने तड़के ही बनाया था टिफिन

बाणगंगा निवासी मोहम्मद नसीम (50) कंपनी में ड्रायवरी करते थे। उन्होंने चार महीने पहले ही नेक्सा ज्वाइन की थी। नसीम ने रात को ही पत्नी को बताया था कि सुबह उन्हें जल्दी इंदौर के लिए निकलना है। पत्नी ने रात में उनके कपड़ों में प्रेस करके सारी तैयारी कर दी थी और तड़के नसीम के लिए टिफिन तैयार किया था। नसीम के चार बच्चों में तीन की शादी हो चुकी है। सोमवार सुबह हादसे की सूचना मिलते ही नसीम के परिजन और रिश्तेदार सीहोर के लिए रवाना हो गए।

पत्नी को बताए बगैर बेटे का शव लेने पहुंचे

वसुंधरा कॉलोनी, जहांगीराबाद निवासी संयोग प्रताप सिंह (25) नेक्सा कंपनी में एग्जीक्यूटिव थे। सुबह उसके पिता प्रीतम सिंह को हादसे की जानकारी मिली तो उन्होंने अपनी पत्नी को इस बारे में कुछ नहीं बताया। पड़ोसियों को भी इस बारे में कोई जानकारी नहीं देने की बात कहते हुए वह बेटे का शव लेने के लिए सीहोर चले गए। संयोग के घर के सामने ही गणेशजी की झांसी स्थापित है, जहां वह रोजाना पूजा-अर्चना करता था। मोहल्ले वालों ने बताया कि शाम को वह बहुत खुश लग रहा था। संयोग के पिता और भाई प्रायवेट काम करते हैं। उसकी एक बहन है, जिसकी शादी हो चुकी है। सूचना मिलने के बाद वह भी हरियाणा से भोपाल के लिए रवाना हो गई है।

मोहल्ले में पसरा मातम

राम नगर कॉलोनी, ईदगाह हिल्स निवासी फरहान के परिजन हादसे के बाद सीहोर रवाना हो गए थे। उनकी कॉलोनी में मातम पसरा था। पुलिस जब घर पहुंची तो ताला लगा मिला। इसी प्रकार राजगढ़ निवासी अजय आचार्य के परिजनों को जानकारी मिली तो वह भी सीहोर पहुंच गए और पीएम के बाद शव लेकर राजगढ़ के लिए रवाना हो गए। अजय भोपाल में राजहर्ष कॉलोनी कोलार रोड पर रहते थे।

यह है मामला

भोपाल की नेक्सा कार कंपनी के शोरूम के कर्मचारियों के लिए इंदौर में सोमवार को ट्रेनिंग कार्यक्रम था। इसमें शामिल होने नसीम खान, संयोग, तनिष्का, अजय, फरहान सोमवार तड़केसाढ़े चार बजे इंदौर रवाना हुए थे। करीब साढ़े पांच बजे उनकी कार मंडी थानांतर्गत ग्राम जताखेड़ी के पास से गुजर रही थी। एक भारी वाहन को ओवरटेक करने के प्रयास में वाहन ने कार को टक्कर मार दी। कार पुलिया में जा गिरी। इसमें सभी की मौत हो गई।