वालमार्ट ने भारत से झींगे की निर्यात खेप की ब्लॉकचेन तकनीक से निगरानी शुरू की

वालमार्ट ने भारत से झींगे की निर्यात खेप की ब्लॉकचेन तकनीक से निगरानी शुरू की

नई दिल्ली। खुदरा स्टोर श्रृंखला चलाने वाली वैश्विक कंपनी वॉलमार्ट ने आंध्र प्रदेश से अमेरिका भेजे जाने वाले समु्द्री झींगे की खेप की शुरू से आखिरी ठिकाने तक निगरानी के लिए ब्लॉकचेन तकनीक का प्रयोग शुरू किया है। कंपनी का कहना है कि अभी यह परियोजना परीक्षण के रूप में शुरू की गयी है और यह ैभारत के झींगा किसान से विदेशी खुदरा प्रतिष्ठान तक झींगे की खेप पर निगाह रखने के लिए ब्लॉकचेन का पहला ज्ञात उपयोग है। कंपनी का दावा है कि इससे भारत से समु्रदी खाद्य उत्पादों की आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत करने में मदद मिलेगी और भारतीय झींगे की खेप में विदेशी ग्राहकों का विश्वास मजबूत होगा। वॉलमार्ट इंक ने 2017 से ग्लोबल फूड ट्रैसेबिलिटीर् खाद्य उत्पादों की खेप की निगरानीी बढ़ाने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक के उपयोग पर आईबीएम के साथ सहयोग किया है। भारत से निर्यात किए जाने वाले कृषि उत्पादों में झींगे का बड़़ा योगदान है और इस मामले में अमेरिका भारत का सबसे बड़ा बाजार है। विज्ञप्ति के अनुसार, 2018 में भारत ने मूल्य के हिसाब से 46 प्रतिशत झींगा अमेरिका को निर्यात किया। आंध्र प्रदेश झींगे के लिए एक प्रमुख केंद्र है और राज्य सरकार किसानों को अमेरिकी खाद्य मानकों के अनुसार काम करने को प्रोत्साहित कर रही है। विज्ञप्ति में अमेरिका के मत्सय उद्योग संस्थान नेशनल फिशरीज इंस्टीट्यूटे के अध्यक्ष जॉन कॉनली के हवाले से कहा गया है, ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी में समु्रदी खाद्य उत्पाद समुदाय को बदलने की संभावना मौजूद है। दुनिया में सबसे अधिक बिकने वाले उत्पादों में शामिल समु्रदी खाद्य की एक जटिल और व्यापक आपूर्ति श्रृंखला है और इसमें परीक्षण तथा आपूर्ति श्रृंखला की अत्याधुनिक निगरानी प्रणाली महत्वपूर्ण है।