राज मिस्त्री बनकर पांच साल से रह रहा था शहर में

राज मिस्त्री बनकर पांच साल से रह रहा था शहर में

इंदौर। नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) की टीम ने मंगलवार को आजाद नगर क्षेत्र से पश्चिम बंगाल के बर्धमान में ब्लास्ट के आरोपी जहिरुल पिता मोहम्मद जोयद अली शेख को गिरफ्तार किया है। उसे नैनो कार जब्त की गई है। 2 अक्टूबर 2014 को बर्धमान शहर के खड़गापुर इलाके के एक घर में ब्लास्ट हुआ था। इसमें जहिरुल समेत 33 लोगों को आरोपी बनाया गया था। घटना में उसके दो साथियों अब्दुल हफीज व युसूफ की मौके पर मौत हो गई थी, जबकि उसे छोड़ शेष आरोपी पूर्व में पकड़े जा चुके थे। जहिरुल पर तीन लाख रुपए का इनाम भी रखा गया था। इंदौर में वह मिस्त्री का काम करता था और अकेला रहता था। स्थानीय पुलिस को नहीं थी सूचना एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने इस बात की पुष्टि करते हुए जानकारी दी कि एनआईए की टीम ने आजाद नगर पुलिस को सूचना दिए बगैर उसे उठा लिया और कोर्ट में पेश कर ट्रांजिट रिमांड पर लेकर कोलकाता रवाना हो गए। जहिरुल को 12 अगस्त को जेएमएफसी कोर्ट में पेश किया गया था।

फर्जी पतों पर लेता था सिम

1988 में जन्मा जहिरुल शेख मूलत: बंगलादेश का रहने वाला है। वारदात के कुछ दिन बाद इंदौर आकर रहने लगा था। बंगलादेश में वह ड्राइवरी करता था। वह बंगलादेश में संचालित जमात उल मुजाहिदी बांग्लादेश (जेएमबी) का सदस्य था। बंगलादेश का यह प्रतिबंधित संगठन हिंदुस्तान में अपने साथियों को हथियार और विस्फोटक सामग्री पहुंचाता था। सिमुलिया मदरसा से पढ़े जहिरुल पर आरोप है कि वह सीडी और अन्य पाठ्य सामग्रियों के जरिए जिहादियों को ट्रेनिंग देता था। पश्चित बंगाल में वारदात से पहले वह जिहादियों से बात करने के लिए अन्य सदस्यों के लिए फर्जी पते से सिम कार्ड खरीदने का काम भी इसी के जिम्मे था। वह मोबाइल की सिम बिना आईडी प्राप्त कर लेता था, जिससे उसके ठिकाने का पता नहीं चल पाता था। 23 जुलाई 2015 को एनआईए ने उसे आरोपी बनाया था।