13 जून को दस्तक देगा ‘वायु’, दहशत में गुजरात, अलर्ट जारी

13 जून को दस्तक देगा ‘वायु’, दहशत में गुजरात, अलर्ट जारी

नई दिल्ली। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने अनुमान लगाया है कि चक्रवाती तूफान वायु वारावल और दीव क्षेत्र में पोरबंदर और माहुवा के बीच गुजरात तट पर 13 जून (गुरुवार) को तड़के टकरा सकता है। इसकी गति संभवत: 110-120 किमी/ घंटे होगी, जोकि बढ़कर 135 किमी/ घंटे तक पहुंच सकती है। तूफान से गुजरात के तटीय जिलों में भारी बारिश होने की उम्मीद है। इसके साथ ही 1 से 1.5 मीटर ऊंचाई तक ज्वार उठने की उम्मीद है जिससे निचले जिलों में पानी भरने की संभावना है। वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को तूफान की वजह से उत्पन्न होने वाली परिस्थितियों से निपटने के लिए राज्य और केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों का जायजा लिया। वहीं मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने भी राज्य में राहत एवं आपदा प्रबंधन की तैयारियों का जायजा लिया। वहीं एनडीआरएफ ने 26 टीमें पहले से ही तैनात कर दी हैं। हर टीम में 45 सदस्य हैं जो नावें, पेड़ काटने के औजार और दूसरे जरूरी उपकरणों से लैस हैं। 

अगले 24 घंटों में और भी खतरनाक हो सकता ‘वायु’ चक्रवात

मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए बताया कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण चक्रवात वायु तेज हो गया है। चक्रवात नॉर्थ वेस्ट अमीनदीवी (लक्षद्वीप) से 380 किलोमीटर, साउथ वेस्ट मुंबई (महाराष्ट्र) में 630 किलोमीटर और वेरावल (गुजरात) के साउथ में 780 किलोमीटर दूरी पर है। यह काफी रμतार से साथ उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा है। अगले 24 घंटे और भी खतरनाक हो सकता है। वहीं 12 व 13 जून को स्कूल, कॉलेज में छुट्टी रखने के आदेश दिए हैं। जरूरी सुविधाएं यथाशीघ्र बहाल होने पर जोर: गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि गृह मंत्री ने इस बात पर भी जोर दिया कि अधिकारी सुनिश्चित करें कि बिजली, टेलिकम्युनिकेशन, स्वास्थ्य और पेयजल जैसी जरूरी सुविधाएं यथाशीघ्र बहाल हो जाएं। अधिकारी ने बताया कि गृह मंत्रालय गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, दमन, दीव जैसे राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से संपर्क बनाए हुए है। इन इलाकों पर चक्रवात का असर हो सकता है। 

भारत की शरण में आए चीनी पोत

इस बीच इस तूफान के प्रभाव से बचने के लिए 10 चीनी पोतों ने भारत में शरण ली है। महाराष्ट्र के रत्नागिरी बंदरगाह में इन पोतों को शरण दी गई है। भारतीय तटरक्षक महानिरीक्षक केआर सुरेश ने बताया कि मानवीयता के नाते भारतीय तटरक्षक बल ने उन्हें सुरक्षा घेरा के तहत वहां रहने की इजाजत दी है। 

इधर गर्मी से पाक में छूटेंगे पसीने

वहीं, पाकिस्तान मौसम विभाग के विज्ञानी अब्दुर राशिद ने बताया कि पाकिस्तानी तटों पर इसका ज्यादा असर नहीं होगा। लेकिन इसकी वजह से पाकिस्तान के तटीय इलाकों में हीट वेव (गर्मी) बढ़ सकती है। यह तूफान आगे जाकर कैटेगरी- 3 का चक्रवात बन सकता है। अब्दुर राशिद ने बताया कि चक्रवाती तूफान वायु की वजह से अरब सागर में दबाव के क्षेत्र बनेगा। इसी वजह से पाकिस्तानी तटीय इलाकों में गर्मी बढ़ सकती है। अभी वहां 35 से 37 डिग्री तापमान है, जो बढ़कर 40 से 42 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है।