बूथ छोड़कर बाहरी नेता के साथ नहीं घूमें कार्यकर्ता : सीएम

बूथ छोड़कर बाहरी नेता के साथ नहीं घूमें कार्यकर्ता : सीएम

इंदौर। लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस भले ही अब तक उम्मीदवार घोषित नहीं कर पाई है, लेकिन पार्टी ने इंदौर को जीतने के लिए बूथ मैनेजमेंट पर पूरा फोकस कर लिया है। जिला कांग्रेस ने बूथ स्तर का मैनेजमेंट करते हुए 11-11 और अधिकतम 15 कार्यकर्ता तैनात किए हैं। साथ ही अब जल्द ही इन सभी बूथ कार्यकर्ताओं को टेÑनिंग दी जाएगी, जिसकी तारीख जल्द तय होगी। इस बीच जिला कांग्रेस ने ऐसे 24 ब्लॉक अध्यक्षों को नोटिस जारी किए हैं, जो निष्क्रिय रहे हैं। ऐसे ब्लॉक अध्यक्षों से जवाब मांगे जा रहे हैं। सात दिनों में जवाब नहीं देने वालों के खिलाफ प्रदेश संगठन के समक्ष निष्कासन के लिए सिफारिश की जाएगी। इंदौर संसदीय सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार जीत दर्ज करवा सके, इसके लिए संगठन बूथ मैनेजमेंट पर अपने कार्यकर्ताओं की फौज उतारेगा। इसके लिए बाकायदा बूथ संभालने वाले कार्यकर्ताओं को एक्सपर्ट के माध्यम से टेÑनिंग देगा और इसके बाद उन पर पूरी नजर भी रखेगा। कांग्रेस ने इस बात की पुख्ता तैयारी कर ली है। इस संबंध में मुख्यमंत्री कमलनाथ की और से भी स्पष्ट निर्देश पत्र के माध्यम से जिला और शहर कांग्रेस को मिल चुके हैं।

विधायकों की सक्रियता से मिलेगी ताकत - इंदौर संसदीय सीट की 8 में से 4 विधानसभा सीटों पर कांग्रेस विधायक हैं। ऐसे में यह विधायक पार्टी की ताकत बनकर उभरेंगे। पार्टी संगठन को उम्मीद है कि इससे पार्टी प्रत्याशी को खासी बढ़त मिलेगी।