सेंसेक्स में 481 व निफ्टी में आया 133 अंकों का उछाल

सेंसेक्स में 481 व निफ्टी में आया 133 अंकों का उछाल

मुंबई वित्तीय, ऊर्जा और दूरसंचार कंपनियों के शेयरों में लिवाली निकलने से मंगलवार को बंबई शेयर बाजार के सेंसेक्स ने 481 अंक की लंबी छलांग लगा दी। विदेशी कोषों के निवेश और सकारात्मक वैश्विक संकेतों से भी बाजार धारणा को बल मिला। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 481.56 अंक या 1.30 प्रतिशत की बढ़त के साथ 37,535.66 अंक पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 133.15 अंक या 1.19 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11,300 अंक के स्तर को पार कर 11,301.20 अंक पर पहुंच गया। सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में भारती एयरटेल सबसे अधिक 4.61 प्रतिशत चढ़ा है। अन्य कंपनियों में आईसीआईसीआई बैंक, इंडसइंड बैंक, एलएंडटी, सनफार्मा, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा 3.69 प्रतिशत तक चढ़ गए। वहीं इस रुख के उलट बजाज फाइनेंस, इन्फोसिस, ओएनजीसी, एनटीपीसी, कोल इंडिया, यस बैंक, बजाज आॅटो, एसबीआई, हीरो मोटोकॉर्प और टीसीएस के शेयर 1.13 प्रतिशत नीचे आए। सेंट्रम वेल्थ मैनेजमेंट के प्रमुख (इक्विटी एडवाइजरी) देवांग मेहता ने कहा कि राजनीतिक अनिश्चितता घटने के बाद पिछले कुछ सप्ताह से बाजार लगातार मजबूती हासिल कर रहा है। आम चुनाव की तारीखों के ऐलान और विभिन्न सर्वेक्षणों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वापसी की उम्मीद से शेयर बाजार कुलांचे भर रहा है। सोमवार को पिछले छह महीने के ऊपरी स्तर को छूने के बाद बाजार मंगलवार को भी शानदार तेजी के साथ बंद हुआ। इस बीच, बंबई शेयर बाजार के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने सोमवार को 3,810.60 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। इस बीच, अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में एक समय डॉलर के मुकाबले रुपया 15 पैसे की मजबूती के साथ 69.54 रुपये प्रति डॉलर पर चल रहा था।

शेयरबाजार में तेजी के चार प्रमुख कारण

रुपये में लगातार तेजी

डॉलर के मुकाबले रुपया दो महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गया है। रुपये में तेजी लगातार चौथे दिन भी बरकरार रही। शेयर बाजार की स्थिरता के बीच निवेशकों के जोखिम सहने की क्षमता में सुधार हुआ है। रुपया 28 पैसे सुधरकर 68.60 के स्तर पर पहुंच गया।

मोदी सरकार की वापसी की उम्मीद

बीजेपी नीत मोदी सरकार की वापसी की उम्मीद से भी बाजार को बड़ा बल मिला है। विशेषज्ञों का मानना है कि चुनाव से पहले बाजार में तेजी बरकरार रहेगी। वहीं, भारतीय बाजार में विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) का उत्साह बरकरार है। वे साल 2019 में अब तक 19,705 करोड़ रुपये का निवेश कर चुके हैं।

एशियाई अर्थव्यवस्था की हालत अच्छी

मजबूत वैश्विक संकेतों से घरेलू बाजार को बल मिला है। ब्रिटिश पार्लियामेंट में वोटिंग से पहले यूरोपियन कमीशन द्वारा ब्रेग्जिट डील में बदलाव पर सहमति जताने से एशियाई बाजार में तेजी का माहौल है।

तेजी वाले शेयर

बीएसई पर भारती एयरटेल के शेयर में सर्वाधिक 5.12 फीसदी, इंडसइंड बैंक में 3.69 फीसदी, आईसीआईसीआई बैंक में 3.27 फीसदी, एलएंडटी में 3.08 फीसदी और सन फार्मा के शेयर में 2.32 फीसदी की तेजी दर्ज की गई। वहीं, एनएसई पर भारती एयरटेल के शेयर में 5 फीसदी, आईसीआईसीआई बैंक में 3.42 फीसदी, इंडसइंड बैंक में 3.24 फीसदी, एलएंडटी में 3.15 फीसदी और अडानी पोर्ट्स के शेयर में 2.85 फीसदी की तेजी देखी गई।

गिरावट वाले शेयर

बीएसई पर बजाज फाइनेंस के शेयर में सर्वाधिक 1.30 फीसदी, इन्फोसिस में 0.67 फीसदी, एनटीपीसी में 0.59 फीसदी, ओएनजीसी में 0.52 फीसदी और कोल इंडिया के शेयर में 0.29 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। एनएसई पर आयशर मोटर्स के शेयर में सर्वाधिक 2.62 फीसदी, बजाज फाइनेंस में 1.36 फीसदी, इंफ्राटेल में 1.16 फीसदी, हिंदुस्तान पेट्रोलियम में 0.91 फीसदी और जेएसडब्ल्यू स्टील के शेयर में 0.87 फीसदी की गिरावट देखी गई।

बने नए रिकॉर्ड

सोमवार को सेंसेक्स 382.7 अंक यानी 1 पर्सेंट की उछाल के साथ 37,054.10 पर बंद हुआ। इससे पहले इंट्राडे में बीएसई का बेंचमार्क इंडेक्स 37,106.19 तक चला गया था। निफ्टी भी 149.90 अंक (1.3 पर्सेंट) की तेजी के साथ 11,176.30 पर बंद हुआ। स्मॉल और मिडकैप सेगमेंट में भी तेजी जारी है। बीएसई मिडकैप इंडेक्स सोमवार को 2 पर्सेंट चढ़ा। इसके साथ पिछले एक महीने में इसमें 7 पर्सेंट की तेजी आ चुकी है।