मप्र में 12 करोड़ डोज लगे लेकिन 12 to 14 वाले बच्चे पिछड़े

मप्र में 12 करोड़ डोज लगे लेकिन 12 to 14 वाले बच्चे पिछड़े

भोपाल। प्रदेश में वैक्सीन के 12 करोड़ डोज लग चुके हैं, लेकिन 12-14 उम्र के बच्चों का वैक्सीनेशन धीमा चल रहा है। राज्य सरकार ने 23 मार्च से इस आयु वर्ग के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू किया था। प्रदेश भर में 30 लाख बच्चों को वैक्सीन के दोनों डोज लगाने का लक्ष्य था। लेकिन अब तक वर्ग को सिर्फ 34 लाख डोज ही लगे हैं। भोपाल में 86 हजार बच्चों का लक्ष्य था, लेकिन यहां भी सिर्फ 74 हजार बच्चों को ही टीका लगा है।

सेंटर्स पर वयस्कों की संख्या अधिक

भोपाल के काटजू अस्पताल के वैक्सीनेशन सेंटर पर मंगलवार दोपहर करीब 5 से 6 लोग वैक्सीनेशन के लिए थे। यहां के स्टाफ का कहना है कि रोजाना करीब 100 लोगों को टीके लग रहे हैं, जिनमें 20 बच्चे ही होते हैं।

15 से 17 उम्र के बच्चों का वैक्सीनेशन लगभग पूरा

3 जनवरी से प्रदेश में 15 से 17 उम्र वालों का वैक्सीनेशन शुरू हुआ था। 38 लाख बच्चों को वैक्सीनेट करने का लक्ष्य था। अब तक 74 लाख से अधिक टीके लग चुके हैं।

टीकाकरण धीमा होने की वजह

स्कूल बंद होने से टीकाकरण की रμतार में कमी आई। बच्चे छुट्टियों में घर पर थे, ऐसे में पैरेंट्स ने भी लापरवाही की। कोविड का असर कम होने के बाद प्रचार- प्रसार भी कम हुआ।

टीकाकरण को गति देंगे

अभी स्कूल खुलना शुरू हुए हैं। इससे टीकाकरण को गति देने में आसानी होगी। कोशिश है सारे बच्चों का टीकाकरण जल्द हो। डॉ. प्रभुराम चौधरी, स्वास्थ्य मंत्री