भारी बारिश से गिरी नाले की दीवार पीछे मॉल निर्माण में लगे मजदूर दबे 2 की मौत

भारी बारिश से गिरी नाले की दीवार पीछे मॉल निर्माण में लगे मजदूर दबे 2 की मौत

 भोपाल। राजधानी में सोमवार दोपहर करीब 3 बजे हुई तेज बारिश से बैरागढ़ में एक नाले की दीवार पानी के प्रेशर से टूट गई। घटना के वक्त नाले के बगल में 25 मजदूर एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स के निर्माण में लगे थे। इनमें से 7 नाले के बेहद करीब थे। अचानक दीवार टूटने से उसका मलबा और मिट्टी निर्माणस्थल पर गिरी, जिससे मजदूर मलबे और मिट्टी में दब गए। घटना की जानकारी मिलते ही नगर निगम, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें पहुंचीं और रेसक्यू शुरू किया गया। इस बीच 5 मजदूर सुरक्षित निकल आए, जबकि दो मजदूर मिट्टी और सरियों में बुरी तरह से फंस गए थे। इनके शव निकालने के लिए आधी रात के बाद तक मशक्कत जारी थी। डीसीपी विजय खत्री ने बताया मृतकों की पहचान करोंद निवासी मंसूर और नरेश के रूप में हुई है।

30 फीट नीचे से बन रहे थे बेसमेंट के पिलर, सरियों में फंसे मजदूर

यह दर्दनाक घटना पुरानी सिंधु टॉकीज के पास हुई। यहां नाले से सटकर करीब 10 हजार वर्गफीट में बिल्डर गिरिराज शर्मा शॉपिंग कॉम्पलेक्स का निर्माण करा रहा है। इसका बेसमेंट बनाने के लिए करीब 30 फीट गहराई तक खुदाई की गई है। सोमवार को बेसमेंट फाउंडेशन भरने के लिए पिलर बनाए जा रहे थे। यह पिलर नाले से महज दो से तीन मीटर दूरी पर ही हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि नाले की दोनों तरफ की दीवारें पक्की थीं, लेकिन नीचे से यह कच्चा है। कई दिनों से नाले का पानी कंस्ट्रक्शन साइट की तरफ रिस रहा था, जिस पर ध्यान नहीं दिया गया। सोमवार को तेज बारिश में नाला उफना तो इसकी दीवार के नीचे की मिट्टी बह गई और दीवार ढह गई। इससे मलबा यहां डंप मिट्टी के साथ मजदूरों पर गिरा और वे दब गए।

आंखों देखी

दोपहर करीब 2 बजे लंच के बाद लगभग 25 लोग बेसमेंट में काम कर रहे थे। तेज बारिश आई तो हम बाहर निकल आए। 7 मजदूर नाले के पास वाले इलाके में काम कर रहे थे। तभी नाले की दीवार टूटने से बेसमेंट में पानी भरने लगा और सभी फंस गए। इनमें से 5 सुरक्षित निकल आए, लेकिन दो मलबे में दब गए। इसके बाद क्या हुआ, हमें पता नहीं चल पाया। -श्रवण कुमार सोलंकी, मजदूर

रात 1:30 बजे तक रेस्क्यू जारी, 100 जवान डटे

घटना के बाद 100 जवान और अफसर रात 1:30 के बाद भी रेस्क्यू में लगे रहे। एसडीआरफ जिला कमांडेंट केआरबी सिंह ने बताया कि लोहे और मिट्टी में दबे दो शवों को निकालने में भारी मुश्किल आई।

1 बैरागढ़ में बड़ा हादसा

यह हिस्सा नाले की उसी दीवार का है, जो तेज बारिश में ढह गई। दीवार गिरते ही मलबा और मिट्टी मजदूरों पर जाकर गिरी।

2 मजदूर यहीं काम कर रहे थे। यह जगह नाले से चंद फीट की दूरी पर है। इससे उन्हें भागने का मौका भी नहीं मिला।