संसद सत्र के पहले दिन 25 सांसद कोरोना पॉजिटिव मिले

संसद सत्र के पहले दिन 25 सांसद कोरोना पॉजिटिव मिले

नई दिल्ली । सोमवार से संसद के मानसून सत्र की शुरुआत हो चुकी है, लेकिन इसके पहले 25 सांसद कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सांसदों का 13 और 14 सितंबर को संसद भवन में टेस्ट कराया गया था। पॉजिटिव पाए गए सांसदों में से लोकसभा के 17 और राज्यसभा के 8 सांसद शामिल हैं। लोकसभा के कोरोना संक्रमित सांसदों में सबसे ज्यादा 12 सांसद बीजेपी के हैं। वाईआरएस कांग्रेस के 2, शिवसेना, डीएमके और आरपीएल के एक-एक सांसद हैं। सूत्रों ने बताया कि पॉर्लियामेंट परिसर में 12 सितंबर को हुए आरटी- पीसीआर टेस्ट में कुल 56 लोग पॉजिटिव पाए गए, इमसें लोकसभा व राज्यसभा सांसदों के अलावा आॅफिशियल व मीडियाकर्मी भी शामिल हैं। अब तक हुई जांचों में बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी, अनंत कुमार हेगड़े और प्रवेश साहिब सिंह वर्मा समेत 25 सांसद पॉजिटिव मिले हैं। संक्रमित सांसदों में सुखबीर सिंह, प्रताप राव जाधव, जनार्दन सिंह, हनुमान बेनीवाल, सेल्वम जी, प्रताप राव पाटिल, रामशंकर कठेरिया, सत्यपाल सिंह समेत अन्य भी शामिल हैं। सत्र से पहले यह नियम बनाया गया था कि सभी को कोरोना टेस्ट कराना होगा। मानसून सत्र शुरू होने से पहले कई उम्रदराज सांसदों ने कोरोना को लेकर चिंता जताई थी। उनका कहना था कि सत्र शुरू होने पर गाइडलाइंस के बीच भी हर वक्त परिसर में कम से कम 2,000 लोग मौजूद रहेंगे। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, राज्यसभा के 240 सांसदों में से 97 सांसद 65 साल से ज्यादा है। वहीं 20 ऐसे सांसद हैं, जिनकी उम्र 80 साल के ऊपर है, जिसमें 87 साल के मनमोहन सिंह और 82 साल के एके एंटनी का नाम शामिल है।

थ्री प्लाई ब्लू मास्क में पहुंचे पीएम सीतारमण ने पहना मधुबनी मास्क 

मानसून सत्र के दौरान लोकसभा की बैठक में शामिल हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने नीले रंग का थ्री प्लाई मास्क पहन रखा था, तो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मधुबनी मास्क पहने नजर आर्इं। तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी तथा कुछ सदस्य फेस शील्ड पहनकर सदन में पहुंचे। लोस अध्यक्ष ओम बिरला व रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी सफेद रंग का मास्क पहनकर अपने आसन पर पहुंचे। सदन में सदस्यों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर सीट के आगे प्लास्टिक शील्ड कवर लगाया गया है। लोस चैंबर में करीब 200 सदस्य मौजूद थे, तो लगभग 30 सदस्य गैलेरी में थे। लोस चैंबर में ही एक बड़ा टीवी स्क्रीन लगाया गया है, जिसके माध्यम से राज्यसभा चैंबर में बैठे लोस के सदस्य भी नजर आ रहे थे। सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए सदस्यों के लोकसभा चैंबर, गैलरी के साथ राज्यसभा में भी बैठाया गया है।

 इतिहास में पहली बार

इस सत्र में संसद के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा, जब लोकसभा के सदस्य राज्यसभा के चैंबर और दर्शक दीर्घाओं में भी बैठे। इन दीर्घाओं के माध्यम से देश की जनता संसद की कार्यवाही देखा करती थी। यह प्रयास एवं सुरक्षा इंतजाम सांसदों के बीच शारीरिक दूरी बनाए रखने के उद्देश्य से किया गया है।

सांसदों ने मोबाइल ऐप से लगाई अटेंडेंस 

संसद सत्र के दौरान सदन में ऐसी कई चीजें देखने को मिलीं, जो पहली बार  हुई । पहली बार सांसदों ने मोबाइल एप से अटेंडेंस लगाई और सांसद सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परिसर में बात करते दिखे। पहली बार ऐसा हुआ कि लोकसभा में सदस्यों को बैठकर अपनी बात रखने को कहा गया। ऐसे में सांसदों ने सदन में बैठे-बैठे ही सवालजवाब किए और दो गज की दूरी बनाकर बात करते दिखे।

वेतन में 30%कटौती वाला विधेयक लोस में पेश 

लोकसभा में सोमवार को सांसदों के वेतन में एक वर्ष के लिए 30 प्रतिशत कटौती करने वाला एक विधेयक पेश किया गया। इसका उपयोग कोविड19 महामारी के कारण उत्पन्न स्थिति से मुकाबले के लिए किया जाएगा । संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी ने निचले सदन में संसद सदस्यों के वेतन, भत्ता एवं पेशन संशोधन विधेयक 2020 को पेश किया।