चीन में नए वायरस से 35 संक्रमित

चीन में नए वायरस से 35 संक्रमित

बीजिंग। चीन में जूनोटिक लैंग्या वायरस से 35 लोग संक्रमित हो गए हैं। ताइवान सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (टीसीडीसी) के अनुसार, चीनी मुख्य भूमि पर शेंडोंग और हैनान प्रांतों में सबसे पहले लैंग्या वायरस के मामले पाए गए थे। अधिकारियों ने वायरस का पता लगाने और इसके प्रसार को ट्रैक करने के लिए यह तय किया है कि वे न्यूक्लिक एसिड परीक्षण प्रक्रियाओं का उपयोग शुरू करेंगे। ताइपे सीडीसी ने एहतियाती अलर्ट जारी किया है, जिसमें लोगों को वायरस की खबरों पर कड़ी निगरानी रखने की सलाह दी गई है। ताइवान सीडीसी के उप निदेशक चुआंग जेन-सियांग ने बताया कि अभी तक किसी भी रिपोर्ट ने यह संकेत नहीं दिया है कि यह वायरस मानव-से-मानव शरीर में फैलता है। उन्होंने कहा कि सीरोलॉजिकल सर्वेक्षण के बाद अब तक लगभग 2 फीसदी बकरियों और 5 फीसदी कुत्तों और अन्य घरेलू जानवर वायरस से संक्रमित मिले हैं।

मरीजों का एक-दूसरे से संपर्क नहीं

चीन के दो प्रांत शेंडोंग और हैनान में संक्रमण के मामले मिले हैं। सीडीसी के उप महानिदेशक चुआंग जेनहिसि यांग के अनुसार, एजेंसी जल्द ही घरेलू प्रयोगशालाओं के लिए जीनोम अनुक्रमण और मजबूत निगरानी करने के लिए एक मानकीकृत प्रक्रिया तैयार करेगी। चुआंग ने कहा कि चीन में 35 रोगियों का एक-दूसरे के साथ कोई संपर्क नहीं मिला है। न ही इन मरीजों के परिवारों और करीबियों में कोई संक्रमित मिला है।

वायरस के लक्षण

36 मरीजों में से 26 में बुखार, थकावट, खांसी, भूख कम लगना, मांसपेशियों में परेशानी, मतली, सिरदर्द और उल्टी जैसे लक्षण मिले। मरीजों में कम प्लेटलेट, लीवर फेलियर और किडनी फेलियर जैसे लक्षण भी मिले हैं।

वायरस होगा ट्रैक

चुआंग ने कहा, लैंग्या वायरस नया है, इसलिए प्रयोगशालाओं को वायरस की पहचान करने एक मानकीकृत न्यूक्लिक एसिड परीक्षण विधि की जरूरत होगी। ताकि अगर जरूरत पड़े, तो इससे मानव संक्रमण को ट्रैक किया जा सकेगा।