भारत से पहले 70 देशों में शुरू हो चुकी है 5जी सर्विस

भारत से पहले 70 देशों में शुरू हो चुकी है 5जी सर्विस

वाशिंगटन। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली के प्रगति मैदान में इंडिया मोबाइल कांग्रेस-2022 के छठे संस्करण में देश में 5जी टेलीफोनी सेवाओं की शुरुआत कर की थी, जो मोबाइल फोन पर अल्ट्रा-हाई-स्पीड इंटरनेट के युग की शुरुआत कर रही है। 2019 में लॉन्च होने के बाद से 5जी दुनिया भर में उपस्थिति दर्ज करा रहा है और जून 2022 तक ग्लोबल मोबाइल सप्लायर्स एसोसिएशन (जीएसए) की रिपोर्ट में कहा गया है कि, लगभग 70 देशों में 5जी नेटवर्क स्थापित हो चुका है, जबकि जून 2020 तक सिर्फ 38 देशों में ही 5जी नेटवर्क था। कुछ अनुमानों के मुताबिक, साल 2025 तक 3.6 अरब 5जी कनेक्शन पूरी दुनिया में होंगे और साल 2027 तक यह संख्या बढ़कर 4.4 अरब हो जाएगी। चीन और अमेरिका सबसे अधिक 5जी शहर वाले देश हैं, लेकिन क्षेत्रीय आधार पर, यूरोप, मध्य पूर्व और अफ्रीका (ईएमईए) क्षेत्र ने तैनात 5जी नेटवर्क के मामले में एशिया प्रशांत क्षेत्र (चीन सहित) को पीछे छोड़ दिया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका में 419 5जी नेटवर्क हैं।

वीडियो एक्सपीरियंस मामले में
देश                                 स्पीड
स्वीडन                           82.6 एमबीपीएस
स्लोवेनिया                     81.4 एमबीपीएस
ऑस्ट्रिया                    81.1 एमबीपीएस

विदेश में 5जी की ये हैं कीमतें

दक्षिण कोरिया की एसकेटी लगभग 7 डॉलर में 1जीबी 4जी डेटा प्रदान करती है, 5जी के लिए $0.32 चार्ज करती है।

एलजीयूप्लस 5जी डेटा 5 डॉलर (करीब 400 रुपए) प्रति जीबी पर प्रदान करता है, जबकि 4जी डेटा की कीमत लगभग 20 डॉलर प्रति जीबी है।

अमेरिकी कंपनी वेरिजॉन ने 58 डॉलर यानी करीब 4500 रुपए अनलिमिटेड 5जी की सुविधा दे रही है।

देश में 1500 रुपए करने पड़ सकते हैं 5जी के लिए खर्च

भारत में 5जी के लिए कितना भुगतान करना होगा, इसे लेकर अभी कोई रिपोर्ट नहीं है। विदेशों की कीमतों को देखते हुए अनुमान है कि भारत में 1500 रुपए के आसपास 5जी की कीमत रहने वाली है।

दक्षिण कोरियाई और अमेरिकी कंपनी ने शुरु की थी 5जी

दक्षिण कोरियाई में 3 टेलीकम्युनिकेशन कंपनियां एसके टेलीकॉम, केटी और एलजी यूप्लस और अमेरिकी एटीएंडटी इंक और वेरिजॉन कम्युनिकेशंस इंक ने 5जी सेवा 2-3 साल पहले ही शुरू की थी।