विक्टोरिया अस्पताल के जनरल वॉर्ड में 65 वर्षीय पॉजिटिव महिला की मौत

विक्टोरिया अस्पताल के जनरल वॉर्ड में 65 वर्षीय पॉजिटिव महिला की मौत

जबलपुर । सामान्य मरीजों के साथ कोविड पॉजिटिव मरीज को एडमिट करने और उसकी इलाज के दौरान मौत हो जाने का मामला विक्टोरिया अस्पताल में गुरूवार को देखने मिला। जहां अन्य बीमारी से जूझ रहे करीब 25 मरीजों के साथ कोविड पॉजिटिव मरीज को एडमिट कर दिया गया और इलाज शुरू किया। जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा की गई इस तरह की लापरवाही से न सिर्फ अन्य मरीजों को कोरोना होने का खतरा बढ़ा है बल्कि वहां काम कर रहे स्टाफ भी संक्रमित होने से डरे हुए नजर आए। जानकारी के मुताबिक लालमाटी निवासी 65 वर्षीय वृद्ध महिला को बीते एक सप्ताह से सांस लेने में परेशानी हो रही थी। जिसकी सामान्य दवाई वह घर पर ही ले रही थी। परेशानी बढ़ने के साथ परिवार के अन्य सदस्य उसे विक्टोरिया अस्पताल करीब सुबह 11 बजे पहुंचे। जिसके बाद महिला को जनरल वॉर्ड-1 में अन्य मरीजों के साथ एडमिट किया गया और इलाज शुरू हुआ। करीब 1 बजे महिला की मौत हो गई। इलाज कर रहे डॉक्टर और नर्स ने बताया कि वह कोरोना से पीड़ित थी।

निजी अस्पतालों ने इलाज करने से किया इंकार

लालमाटी निवासी वृद्ध महिला के बेटे बसंत बर्मन ने बताया कि वह अपनी मां का इलाज कराने के लिए सबसे पहले सिटी हॉस्पिटल गया, लेकिन उसका वहां यह कहकर इलाज नहीं हो पाया कि उनके अस्पताल के आईसीयू वॉर्ड भरा हुआ है। जिसके बाद वह मार्बल सिटी अस्पताल व एक अन्य अस्पताल लेकर गए, लेकिन वहां भी उन्हें इसी तरह की बात कही गई। मजबूरी में विक्टोरिया अस्पताल पहुंचे और महिला को एडमिट किया।

एक घंटे बाद अस्पताल पहुंचा सेनिटाइज करने टेंकर

अधिकारियों द्वारा सूचना देने के बाद भी नगर निगम द्वारा एक घंटा बाद सेनेटाइजर गाड़ी अस्पताल पहुंची। जिसके बाद गाड़ी चालक ने पूरे वॉर्ड को सेनेटाइज किया। जिसके ठीक 15 मिनिट बाद सभी मरीजों को वॉर्ड में जाने संबंधी निर्देश अधिकारियों द्वारा दिया गया।