कांग्रेस के बाद भाजपा भी राजस्थान में करेगी चिंतन

कांग्रेस के बाद भाजपा भी राजस्थान में करेगी चिंतन

नई दिल्ली। राजस्थान में कांग्रेस 13 से 15 मई तक चिंतिन शिविर का आयोजन करने वाली है, जिसमें वह हाल ही में 5 राज्यों के चुनाव में हार पर चर्चा करेगी। इसके अलावा भविष्य का सियासी रोडमैप तैयार किया जाएगा। इस शिविर में कांग्रेस के 400 नेता शामिल होने वाले हैं। कांग्रेस के बाद अब भाजपा ने भी राजस्थान पर फोकस तेज कर दिया है। जयपुर में 20-21 मई को भाजपा की हाई लेवल बैठक प्रस्तावित है। मध्य प्रदेश, छतीसगढ़, राजस्थान, गुजरात, हिमाचल प्रदेश व कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा की बैठक अहम मानी जा रही है। पीएम मोदी वर्चुअल रूप से बैठक में शामिल होंगे और पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित भी करेंगे। बैठक की अध्यक्षता भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा करेंगे। बैठक में देश भर से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी आदि नेता शामिल होंगे।

राजस्थान में सियासी तापमान बढ़ना तय

कांग्रेस शासित राजस्थान में बैठक का राजनीतिक महत्व है, क्योंकि हाल में राज्य के विभिन्न हिस्सों में हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं के अलावा अन्य मुद्दों पर भाजपा राज्य की अशोक गहलोत सरकार को घेरने में जुटी हुई है। राजस्थान में अगले साल के मध्य में विधानसभा चुनाव होना है। ऐसे में दोनों दलों की मीटिंग ने सियासी तापमान को अभी से बढ़ाना शुरू कर दिया है।

संगठन को मजबूत करने पर होगा मंथन

सूत्रों के अनुसार पार्टी द्वारा अपने संगठन को मजबूत करने के लिए की गई पहल के बारे में विस्तृत चर्चा की जाएगी। बैठक में जल्द ही होने वाले राज्यों में चुनाव की रणनीति पर चर्चा किया जाएगा। जयपुर में प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक 20 मई को होगी, जबकि महासचिवों की बैठक 21 मई को होगी।

लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू

भाजपा ने 2024 के लोकसभा चुनाव और तब तक विभिन्न राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए अपनी तैयारी शुरू कर दी है। सूत्रों के अनुसार, हाल ही में मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी की रणनीति पर चर्चा करने के लिए दिल्ली में विभिन्न उच्च स्तरीय बैठकें आयोजित की गई थीं।

इधर कांग्रेस के चिंतन शिविर की तैयारी में जुटे माकन

इधर कांग्रेस ने उदयपुर में प्रस्तावित 3 दिवसीय चिंतन शिविर की तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है। पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल व प्रदेश प्रभारी अजय माकन तैयारियों का जायजा लेने बुधवार को उदयपुर पहुंचे। झीलों की नगरी कहे जाने वाले उदयपुर में कांग्रेस का चिंतन शिविर 13 से 15 मई तक होना है। शिविर में पार्टी के 400 नेताओं के शामिल होने का अनुमान है। सीएम अशोक गहलोत भी उदयपुर पहुंचे और तैयारियों को अंतिम रूप दिया।

9 साल बाद चिंतन शिविर

कांग्रेस का चिंतन शिविर लगभग नौ साल बाद राजस्थान में हो रहा है। 2013 में पार्टी का ऐसा शिविर जयपुर में हुआ था जिसमें राहुल गांधी को पार्टी का उपाध्यक्ष बनाया गया था।

बेणेश्वर धाम भी जा सकते सोनिया-राहुल

गांधी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी डुंगरपुर के बेणेश्वर धाम भी जा सकते हैं, जहां धाम पर बनाए गए पुल का उद्घाटन किया जाएगा।