कोरोना संक्रमण काल में जरूरतमंदों के लिए बड़ा सहारा बना लंगर

कोरोना संक्रमण काल में जरूरतमंदों के लिए बड़ा सहारा बना लंगर

भोपाल। साकेत नगर स्थित श्री गुरु तेग बहादुर साहेब गुरुद्वारा में चार साल से 200 लोगों को रोजाना लंगर में भोजन करवाया जा रहा था। लेकिन इस साल कोरोना महामारी के चलते 22 मार्च से लगे लॉकडाउन के बाद लंगर में भोजन करने वाले लोगों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है। लॉकडाउन के समय रोजाना 5 से 6 हजार लोगों को लंगर में भोजन कराया गया। गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष हरदीप सिंघ सैनी ने बताया कि संक्रमण काल में जो लंगर शुरू हुआ है, वह निरंतर चल रहा है। गुरुद्वारे में पहले लंगर में सिर्फ एम्स में भर्ती मरीजों के परिजन और आपपास के लोग ही भोजन करते थे। कोरोना की शुरुआत में गरीबों के लिए अलग से लंगर शुरू किया, जिसमें रोजाना 5 से 6 हजार लोगों को खाना खिलाया गया। वर्तमान में रोजाना पांच से सात सौ लोग भोजन करते हैं। संक्रमण काल में जो लंगर शुरू हुआ, अब तक चालू है।

लंगर के दोरान सोशल डिस्टेंसिंग का किया जाता है पालन : कमेटी के अध्यक्ष सैनी ने बताया कि गुरुद्वारे में लंगर के लिए भोजन बनाने वाले सेवादार संक्रमण को ध्यान में रखते हुए भोजन बनाने से पहले अपने हाथों को सेनेटाइज करते हैं। साथ ही बाजार से लाई गई सब्जियों और अनाज को पहले अच्छी तरह से साफ करने के बाद ही पकाते है। लंगर में आने वाले लोगों का गुरुद्वारा के एंट्री गेट पर ही टेम्परेचर मापा जाता है। लंगद के दौरान निश्चित दूरी पर लोगों को बिठाया जाता है, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके ।