एंकर ने नहीं पहना हिजाब तो ईरानी राष्ट्रपति का इंटरव्यू देने से इंकार

एंकर ने नहीं पहना हिजाब तो ईरानी राष्ट्रपति का इंटरव्यू देने से इंकार

न्यूयॉर्क। ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी ने न्यूयॉर्क में बुधवार को सीएनएन को दिया जाने वाला इंटरव्यू रद्द कर दिया। बताया जा रहा है कि उन्होंने अपना साक्षात्कार इसलिए रद्द कर दिया, क्योंकि साक्षात्कार लेने वाले एंकर्स में से एक क्रिस्टिएने अमानपुर ने इंटरव्यू के दौरान हिजाब पहनने से इंकार कर दिया था। अमानपुर ने गुरुवार को इसका खुलासा किया। अमानपुर ने ट्वीट में बताया कि रईसी संयुक्त राष्ट्र महासभा में शामिल होने के लिए न्यूयॉर्क आए थे और इस दौरान यह उनका अमेरिका की धरती पर अब तक का सबसे पहला इंटरव्यू होने वाला था। उन्होंने बताया कि कई हμतों की योजना एवं आठ घंटे तक ट्रांसलेशन के उपकरण, लाइट्स एवं कैमरा लगाने के बाद हम लोग पूरी तरह तैयार थे लेकिन रईसी ने इंटरव्यू नहीं दिया। किसी राष्ट्रपति ने ऐसा नहीं किया: अमानपुर ने बताया कि इंटरव्यू के लिए निर्धारित समय के 40 मिनट बाद राष्ट्रपति का एक सहायक आया और उसने एंकर को हिजाब पहनने को कहा। इस मैंने विनम्रतापूर्वक इंकार कर दिया। मैंने कहा कि हम लोग न्यूयॉर्क में हैं, जहां हिजाब को लेकर कोई कानून या परंपरा नहीं है।

सहायक बोला

हिजाब के बिना इंटरव्यू नहीं हो सकता

राष्ट्रपति के सहायक ने यह स्पष्ट किया कि यदि मैंने हिजाब नहीं पहना तो इंटरव्यू नहीं होगा। सहायक ने कहा कि यह आदर का मसला है तथा उसने ईरान की स्थिति का हवाला देते हुए देश में चल रहे विरोध प्रदर्शनों की ओर इशारा किया। मैंने फिर से कहा कि मैं इस अजीब और अप्रत्याशित शर्त को नहीं मान सकती। इसके बाद अमानपुर चली गर्इं और इंटरव्यू नहीं हो पाया। मैंने यह भी ध्यान दिलाया कि पूर्व में ईरान के किसी भी राष्ट्रपति ने मुझे इंटरव्यू देने के लिए हिजाब पहनने के लिए बाध्य नहीं किया, जब मैंने ईरान के बाहर उनके इंटरव्यू लिए।

30 शहरों में प्रदर्शन

महिलाओं का साथ देने पुरुष भी सड़कों पर, 31 की मौत

इधर ईरान में महसा अमीनी की मौत के बाद भड़के विरोध प्रदर्शनों पर इस्लामिक रिपब्लिक पुलिस (मोरैलिटी पुलिस) की कार्रवाई में 31 नागरिक मारे गए हैं। ओस्लो स्थित एनजीओ ईरान ह्यूमन राइट्स (आईएसआर) ने गुरुवार को बताया यह प्रदर्शन 30 अधिक शहरों में हो रहा। इसबीच महिलाओं के साथ पुरुष भी प्रदर्शन में शामिल हो गए हैं। महिला की मौत के बाद प्रदर्शनकारी उग्र हो गए और शहर के कई इलाकों में गुरुवार को पुलिस स्टेशनों और वाहनों को आग लगा दी गई। बुधवार देर रात सुरक्षाबलों की कार्रवाई से 11 लोगों की मौत हो गई।