डीएचएफएल घोटाला : उइक के राडार पर 9 रियल एस्टेट कंपनियां, 14 हजार करोड़ की गड़बड़ी

डीएचएफएल घोटाला : उइक के राडार पर 9 रियल एस्टेट कंपनियां, 14 हजार करोड़ की गड़बड़ी

नई दिल्ली। डीएचएफएल ने नौ रियल एस्टेट कंपनियों के जरिए 14,683 करोड़ रुपए से अधिक के कोष की हेराफेरी की है। सीबीआई ने यह आरोप लगाते हुए कहा कि ये कंपनियां पूर्व अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक कपिल वधावन, निदेशक धीरज वधावन और व्यवसायी सुधाकर शेट्टी के नियंत्रण वाली हैं। अधिकारियों ने कहा कि इसके साथ ही इन रियल एस्टेट कंपनियों की भूमिका सीबीआई की जांच के दायरे में आ गई है। इनमें से पांच शेट्टी की सहाना समूह से संबंधित हैं। प्राथमिकी में जांच एजेंसी ने कहा कि न्यूनतम संचालन वाली कंपनियों को पर्याप्त दस्तावेजों और मोर्टेज सिक्योरिटीज के मूल्यांकन के बिना ही कर्ज दिया गया था। फंड डायवर्ट किया गया और कई मामलों में सहाना समूह के सुधाकर शेट्टी से संबंधित संस्थाओं में निवेश के लिए उपयोग किया गया था। सीबीआई डीएचएफएल में 34,615 करोड़ रुपए के घोटाले की जांच कर रही है। जांच एजेंसी ने यूनियन बैंक आॅफ इंडिया की अगुवाई में 17 बैंकों के समूह के साथ कथित धोखाधड़ी मामले में डीएचएफएल के कपिल वधावन और धीरज वधावन के खिलाफ ताजा मामला दर्ज किया है। यह एजेंसी की जांच के दायरे में आई अबतक की सबसे बड़ी बैंक धोखाधड़ी है।