देश में पहली बार बाढ़ का पानी बनेगा पीने लायक

देश में पहली बार बाढ़ का पानी बनेगा पीने लायक

भोपाल/पटना। बोधगया, गया और राजगीर के लोगों को पीने के लिए जल्द ही शुद्ध गंगाजल मिलने वाला है। राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इन स्थानों के लिए बाढ़ के पानी को ड्रिकिंग वाटर में बदलने के लिए ‘हर घर गंगाजल’ प्रोजेक्ट की पहल की है। इस प्रोजेक्ट का जिम्मा हैदराबाद की मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एमईआईएल) को सौंपा गया, जिसने कोरोना जैसी चुनौतियों के बाद भी इसे रिकॉर्ड समय में पूरा किया। सीएम नीतीश कुमार 27-28 नवंबर को प्रोजेक्ट का शुभारंभ करेंगे। हाथीदह, राजगीर, तेतर और गया में बने पंप हाउस जलसंसाधन विकास मंत्री संजय कुमार झा ने जानकारी देते हुए बताया कि एमईआईएल ने पहले चरण में पटना के मोकामा क्षेत्र के हाथीदह में इंटेक वेल और पंप हाउस बनाया। यहां से गंगा का पानी उठाया जाएगा और पाइपलाइन के जरिए शहरों में सप्लाई किया जाएगा। झा के अनुसार, कुल चार पंप हाउस हाथीदह, राजगीर (9.915 एमक्यूएम), तेतर (18.633 एमक्यूएम) और गया (0.938 एमक्यूएम) भंडारण क्षमता के बनाए गए हैं। इन जलाशयों से राजगीर में 24 एमएलडी, मानपुर में 186.5 एमएलडी और गया में अलग-अलग क्षमता के तीन वाटर ट्रीटमेंट प्लांट में पानी पंप किया जाएगा।