बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की अगली इनिंग राजनेता के रूप में

बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की अगली इनिंग राजनेता के रूप में

पटना। बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस को बिहार सरकार ने मंजूरी दे दी है। माना जा रहा है कि पांडेय ने इस्तीफा बीजेपी से बात फाइनल होने के बाद दिया है। गुप्तेश्वर पांडेय ने 2009 में नौकरी करीब 11 साल बचे होने पर भी इस्तीफा दे दिया था पर टिकट नहीं मिल सका था। पिछले कई महीनों से गुप्तेश्वर पांडेय राजनीति में आने की कोशिश कर रहे थे। वे इन दिनों जदयू के बड़े नेताओं के संपर्क में रह रहे थे और माना जा रहा है कि इसका फायदा उन्हें इस चुनाव में मिलेगा। सूत्रों की मानें तो जेडीयू शाहाबाद में अपनी पैठ बढ़ाने को लेकर डीजीपी पांडेय को बक्सर शहरी सीट या फिर कोई आसपास की सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ा सकती है। माना जाता है कि शाहाबाद में सासाराम, बक्सर, आरा लोकसभा सीटें बीजेपी के खाते में है और जदयू इस इलाके में अपने आप को मजबूत करना चाहती है।

नीतीश के प्रिय हैं :
 31 जनवरी 2019 से पहले जब वह बिहार के डीजीपी नहीं थे तब उन्होंने पूरे बिहार में शराबबंदी को लेकर मुहिम चलाई थी जो काफी हद तक सफल रही थी। माना जाता है कि नीतीश ने इससे खुश होकर पांडेय को डीजीपी का पद दिया था। हाल में जब सुशांत मामले में रिया चक्रवर्ती ने नीतीश कुमार को लेकर टिप्पणी की थी तो पांडेय ने रिया को औकात में रहने की नसीहत तक दे दी थी।