गढ़ा स्टेशन पर दिन में दो बार पटरी से उतरी मालगाड़ी, परेशान होते रहे रेल कर्मचारी

गढ़ा स्टेशन पर दिन में दो बार पटरी से उतरी मालगाड़ी, परेशान होते रहे रेल कर्मचारी

जबलपुर । दक्षिण-पूर्व-मध्य रेलवे एसईसीआर बिलासपुर जोन के नागपुर मंडल अंतर्गत जबलपुर में स्थित गढ़ा रेलवे स्टेशन पर शनिवार को एक ही दिन में दो बार मालगाड़ियां पटरी से उतर गईं, जिन्हें पटरी पर चढ़ाने के लिए पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर से दुर्घटना राहत गाड़ी को भेजना पड़ा, जिससे रेल कर्मचारी परेशान होते रहे। घटना के संबंध में बताया जाता है कि गढ़ा रेलवे स्टेशन पर स्थित यार्ड में सुबह 11 बजे के लगभग गिट्टियों की मालगाड़ी बेलास्ट ट्रेन पटरी से उतर गई, जिसे जब स्थानीय स्तर पर एसईसीआर के कर्मचारी चढ़ाने में असफल हुए, तो पमरे के जबलपुर कंट्रोल को सूचित किया गया, जहां पर खतरे का 3 सायरन 11.20 बजे बजाया गया, जिसके बाद यहां से दुर्घटना राहत गाड़ी मौके के लिए रवाना हुई, जो लगभग 2 घंटे के बाद मालगाड़ी के डिब्बों को पटरी पर वापस किया गया।

रात 7.30 बजे फिर पटरी से उतरी मालगाड़ी

उस घटना के चंद घंटों बाद देर शाम 7.45 बजे फिर गढ़ा स्टेशन पर उसी जगह पर फिर से मालगाड़ी पटरी से उतर गई, जिसे पटरी पर लाने के लिए फिर जबलपुर से राहत दुर्घटना राहत ट्रेन को मौके पर रवाना करने के लिए 3 खतरे का सायरन बजाया गया। रात 8.15 बजे जबलपुर से राहत गाड़ी मौके के लिए रवाना हुई है।

कुछ ही साल हुए हैं यहां पर नई लाइन बिछे

उल्लेखनीय है कि ब्राडगेज परियोजना के तहत जबलपुर-बालाघाट-गोंदिया के बीच नैरोगेज को ब्राडगेज में बदलने का काम कुछ साल पहले ही पूरा हुआ है। यह घटना ऐसे समय हुई, जब जबलपुर में ज्यादा बारिश भी नहीं हुई है, ऐसे में बार-बार गढ़ा स्टेशन पर मालगाड़ी के पटरी से उतरने को इस रेल लाइन के कार्य में गुणवत्ता की कमी को उजागर कर रही है।