कांग्रेस की कर्जमाफी से डिफॉल्टर हुए किसानों का ब्याज भरेगी सरकार

कांग्रेस की कर्जमाफी से डिफॉल्टर हुए किसानों का ब्याज भरेगी सरकार

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार को एमवीएम कॉलेज में आंदोलन कर रहे किसानों के बीच पहुंचे। उन्होंने कहा-मैं आपके बीच आया हूं, क्योंकि किसान आएं और मामा उनके बीच ना आए, ऐसा हो ही नहीं सकता। किसान भाइयों और बहनों की समस्याओं को समझना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की कर्जमाफी के कारण डिफॉल्टर किसानों का ब्याज सरकार भरेगी। किसान यहां 18 सूत्रीय मांगों को लेकर पहुंचे थे। समझें कर्ज का गणित : यदि किसान ने एक लाख का लोन लिया और एक साल में जमा नहीं किया है, तो उसे ब्याज सहित अर्थदंड मिलाकर 1.15 लाख रुपए जमा करने पड़ते हैं। कर्ज जमा नहीं करने की स्थिति में वह डिफॉल्टर हो घोषित हो जाता है। उसे खाद-बीज भी नहीं मिलते हैं।

मुख्यमंत्री ने कीं यह घोषणाएं

???? किसान की सहमति से ही जमीन अधिकृत होगी, बिना अनुमति के जमीन अधिकृत नहीं होगी।

???? किसान पंप योजना का अनुदान अगले बजट में आ जाएगा।

???? गन्ना किसानों के बकाये का मिल मालिकों से बात कर पेमेंट कराएंगे।

???? जले हुए ट्रांसफार्मर को जल्द से जल्द बदलवाएंगे।

???? नहरों की मरम्मत कर टेल एंड तक व्यवस्थित पानी पहुंचाएंगे।

???? ओवरलोड ट्रांसफार्मर के साथ अतिरिक्त ट्रांसफार्मर रखने की व्यवस्था करवाई जाएगी।

???? पीएम किसान सम्मान निधि और सीएम किसान कल्याण निधि योजना में बचे किसानों के नाम जोड़ेंगे ।

???? राजस्व के और बिजली बिल निराकरण के शिविर लगाए जाएंगे।

???? जमीन क्रय करने के बाद शीघ्र नामांतरण की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी।

???? खरीदी केंद्र पर तुलाई जल्दी पूरी करने के लिए बड़े तौल कांटे लगाए जाएंगे।

???? रेवेन्यू की जमीन पर पुराने कब्जे हैं, वर्षों से खेती कर रहे हैं, उन्हें पट्टे देने का काम करेंगे।

किसान बोले- अफसरों को गांव भेजें तो हल हो समस्या

अगले आंदोलन में प्रदेशभर से महिलाएं जुटेंगी। सरकार के मंत्री और विधायकों को चूड़ियां सौंपी जाएगी।

- गिरजाभान ठाकुर, संयोजक, भारतीय किसान संघ्

किसानों की समस्याओं के लिए राजनेता और अधिकारी दोनों जिम्मेदार हैं। अफसरों को नहीं पता कि आलू जमीन के नीचे लगता है या ऊपर। कलेक्टर, एसडीएम को गांवों में भेजे। तब समस्या हल होगी। - आंजना सिंह, अध्यक्ष किसान संघ