अमेरिका जाने के लिए करना पड़ रहा 833 दिन का इंतजार

अमेरिका जाने के लिए करना पड़ रहा 833 दिन का इंतजार

वाशिंगटन। भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने भारतीयों की वीजा संबंधी चुनौतियों का मुद्दा अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के सामने उठाया है। उल्लेखीय है कि यूएस स्टेट डिपार्टमेंट की वेबसाइट के मुताबिक, अमेरिका में विजिटर वीजा हासिल करने की चाहत रखने वाले भारतीयों के लिए वेटिंग पीरियड 833 दिन हो गया है, जबकि छात्र और एक्सचेंज विजिटर वीजा और अन्य गैरअ प्रवासी वीजा के लिए वेटिंग पीरियड 400 दिन है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ हुई बैठक में जयशंकर ने कहा कि वह चाहते थे कि इस पर बात की जाए, क्योंकि प्रतिभा के विकास और गतिशीलता को सुगम बनाना हमारे पारस्परिक हित में भी है। इस पर अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने आश्वासन देते हुए कहा, वीजा के मुद्दे के प्रति मैं बेहद संवेदनशील हूं। उन्होंने भारतीय नागरिकों के वीजा आवेदनों के बैकलॉग के लिए कोरोना को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि उनके पास इससे निपटने की योजना है। अब इसे लेकर काम किया जा रहा है । उन्होंने विश्वास जताया कि आने वाले दिनों में यह समस्या दूर हो जाएगी।

इसलिए बढ़ी वेटिंग

कोरोना महामारी के कारण मार्च 2020 से ही यूएस दूतावास कम स्टाफ और कई अन्य पाबंदियों के साथ काम कर रही है।

स्टूडेंट से लेकर विजिटर तक सभी कैटेगरी में वीजा की डिमांड ज्यादा होने के कारण वेटिंग बढ़ी है।

कुशल कामगारों को एच-1बी वर्क परमिट... अमेरिका टेक्निकल क्षेत्र में काम करने वाले कुशल विदेशी कामगारों को एच-1बी वर्क परमिट देता है। यह गैर-अप्रवासी वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को ऐसे विशेष व्यवसायों में विदेशी श्रमिकों को नियुक्त करने की अनुमति देता है, जिनके लिए तकनीकी विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है।

छात्रों की पहली पसंद अमेरिका

अमेरिकी दूतावास ने पेंडिंग लाखों यूएस वीजा रिक्वेस्ट की जानकारी देते हुए बताया कि इसका सीधा असर उन स्टूडेंट्स पर होगा, जो अमेरिका में पढ़ाई की प्लानिंग कर रहे हैं, क्योंकि विदेश जाकर पढ़ाई के मामले में भारतीय छात्रों की पहली पसंद अमेरिका ही है।

वीजा इंटरव्यू से मिलेगी छूट

अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट ने कॉन्सुलर के अधिकारियों को ऋ, ऌ-1, ऌ-2, ऌ-4, नॉन ब्लैंकेट, छ, ट, ड, ढ, द और एकेडमिक ख के वीजा एप्लिकेंट्स को वीजा इंटरव्यू से छूट देने का अधिकार दिया है। ये छूट 31 दिसंबर 2022 तक दी जाएगी। इससे छात्रों का लाभ होगा।