भारतीय वैज्ञानिकों का दावा- तैयार कर ली कोरोना के ऑल वैरिएंट की वैक्सीन

भारतीय वैज्ञानिकों का दावा- तैयार कर ली कोरोना के ऑल वैरिएंट की वैक्सीन

नई दिल्ली। काजी नजरूल विश्वविद्यालय, आसनसोल और भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान, भुवनेश्वर के वैज्ञानिकों ने एक वैक्सीन तैयार की है। दावा है कि यह वैक्सीन कोरोना वायरस के किसी भी वैरिएंट के खिलाफ बीमारी से रक्षा कर सकती है। रिसर्चर्स ने कहा कि हमने ऐसी वैक्सीन तैयार की है जो कोरोना वायरस के सभी छह मेंबर के खिलाफ एंटीबॉडी तैयार करने में सक्षम होगी। विश्वविद्यालय के साइंटिस्ट चौधरी और सुप्रभात मुखर्जी और आईआईएसईआर, भुवनेश्वर के पार्थ सारथी सेन गुप्ता ने कहा- डिजाइन किया गया टीका अत्यधिक स्थिर, एंटीजेनिक और इम्यूनोजेनिक पाया गया। चौधरी ने कहा कि टीम ने कम्प्युटेशनल मेथड के जरिए यह वैक्सीन विकसित की है। अगले चरण में वैक्सीन का प्रोडक्शन जिसके बाद टेस्टिंग होगी। स्पूतनिक लाइट सिंगल डोज को मिली अनुमति केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने रविवार को कहा कि डीसीजीआई ने भारत में सिंगल- डोज स्पुतनिक लाइट कोविड-19 वैक्सीन के लिए आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति दे दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि यह देश की 9वीं कोविड वैक्सीन है।

देश में सक्रिय मरीजों की संख्या घटी

भारत में कोरोना के मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। पिछले 24 घंटों में देश भर से कोविड-19 के 1,07,474 नए मामले सामने आने हैं। इस दौरान महामारी से 865 और लोगों की मौत हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में कोविड के सक्रिय मरीजों की संख्या घटकर करीब 12.25 लाख रह गई है। फिलहाल कोरोना के 12,25,011 सक्रिय मामले हैं, जो कुल मामलों का 2.90 प्रतिशत है। देश में रिकवरी रेट अब 95.91 प्रतिशत है। पिछले 24 घंटे में देश में 45 लाख 10 हजार 770 कोविड टीके लगाए गए हैं। अब तक 169 करोड़ 46 लाख 26 हजार 697 कोविड टीके दिए जा चुके हैं।