इंदौर जिला प्रशासन द्वारा महू में लगभग 50 करोड़ रुपये के अनाज घोटाले का पर्दाफ़ाश

इंदौर जिला प्रशासन द्वारा महू में लगभग 50 करोड़ रुपये के अनाज घोटाले का पर्दाफ़ाश

इंदौर | इंदौर जिला प्रशासन द्वारा महू में लगभग 50 करोड़ रुपये के अनाज घोटाले का पर्दाफ़ाश किया गया है। कलेक्टर मनीष सिंह ने आज महू में बताया कि इस संबंध में एफ़आइआर दर्ज की गई है और विस्तृत जाँच की जा रही है। इस अनाज घोटाले के तार बालाघाट मंडला और नीमच से भी जुड़े पाए गए हैं। प्राथमिक जाँच में व्यापारी मनोहरलाल अग्रवाल और उसके सहयोगियों के नाम आए हैं। इसमें नागरिक आपूर्ति निगम के एक कर्मचारी की संलिप्तता भी पाई गई है। जांच में प्राथमिक रूप से इनकी कार्यप्रणाली यह पाई गई कि परिवहन करता मोहनलाल अग्रवाल द्वारा उचित मूल्य की दुकानों को जो राशन भेजा जाता था उनके पूर्व ब्लाक पर प्राप्ति के हस्ताक्षर करा लिए जाते थे एवं राशन की दुकानों पर पहुंचाए गए सामान में से 810 क्विंटल राशन वापस ले लिया जाता था इसके एवज में राशन दुकान संचालकों को विशेष राशि मोहनलाल अग्रवाल के पुत्र तरुण द्वारा की जाती थी दुकान संचालक लोगों को कम सामान देकर समानता इसकी पूर्ति करते थे दुकानों की जांच में शासकीय शासन के बोरे जोकि समानता मेरा उससे सीलबंद बिजय जाते हैं दुकानों पर खुले पाए गए जांच में शासकीय दुकानों पर पाए गए चावल शासन द्वारा आवंटित चावल से निम्न स्तर के पाए गए।