बस दो दिन का सस्पेंस और... कौन बनेगा मुख्यमंत्री, फैसला सोमवार को

बस दो दिन का सस्पेंस और... कौन बनेगा मुख्यमंत्री, फैसला सोमवार को

भोपाल। हरियाणा के सीएम खट्टर, ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष लक्ष्मण और आशा लकड़ा पर्यवेक्षक नियुक्त मप्र के अगले सीएम का फैसला 11 दिसंबर की शाम विधायक दल की बैठक में हो जाएगा। भाजपा हाईकमान ने मुख्यमंत्री चयन के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक के बतौर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, राष्ट्रीय ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष के. लक्ष्मण व पार्टी की राष्ट्रीय सचिव आशा लाकड़ा को नियुक्त किया है। पर्यवेक्षकों की मौजूदगी में विधायक अपना नेता चुनेंगे। चुनावी नतीजे आने के 5 दिन बाद भी मुख्यमंत्री के नाम को लेकर सस्पेंस बना हुआ है।

इस दौरान सीएम पद के दावेदार के रूप में शामिल नेता दिल्ली-भोपाल में सक्रिय रहे। इस पद के प्रबल दावेदार पूर्व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा दिल्ली में सत्ता-संगठन के नेताओं से मेल-मुलाकात में व्यस्त रहे। वहीं, नरसिंहपुर से निर्वाचित हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने शुक्रवार को विधानसभा पहुंचकर पंजीयन की औपचारिकता के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात भी की। इसके अलावा कई अन्य विधायकों ने भी पंजीयन कराया।

विधायकों से रायशुमारी करेंगे केंद्रीय पर्यवेक्षक

केंद्रीय पर्यवेक्षक विधायक दल की बैठक के पहले भोपाल में सभी विधायकों और अन्य नेताओं से बात कर उनका मन टटोलेंगे। विधायकों से रायशुमारी के आधार पर पर्यवेक्षक रिपोर्ट हाईकमान को भेजेंगे। उसके बाद सोमवार को होने वाली विधायक दल की बैठक में नेता के नाम का ऐलान कर दिया जाएगा, तभी सस्पेंस भी समाप्त होगा।

केंद्रीय नेता चुने गए विधायक

भाजपा ने इस बार विधानसभा का चुनाव पीएम नरेंद्र मोदी के चेहरे पर लड़ा था। पार्टी को 163 सीटों का प्रचंड बहुमत मिला है। मोदी की टीम में शामिल रहे नरेंद्र सिंह तोमर और प्रहलाद पटेल के अलावा तीन सांसद राकेश सिंह, रीति पाठक और राव उदयप्रताप सिंह भी विधायक चुने गए हैं। राष्ट्रीय महामंत्री विजयवर्गीय पांच साल बाद विधानसभा पहुंचे हैं।

जोधपुरी सूट में पहुंचे सीएम हाउस!

प्रहलाद पटेल सुबह जब विधानसभा परिसर में पत्रकारों से मुखातिब हुए तब कुर्ता-पाजामा और जैकेट में थे। लेकिन, दोपहर बाद जब वह सीएम हाउस पहुंचे, तो जोधपुरी सूट में नजर आए। उनका यह परिधान भी चर्चा का विषय रहा। सीएम हाउस में उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से सौजन्य भेंट की। सुबह वह विधानसभा में बतौर विधायक पंजीयन आदि की औपचारिकताएं पूरी करने में व्यस्त रहे। इसके बाद वह भाजपा मुख्यालय पहुंचे, जहां प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा से मुलाकत की। शाम को पटेल दमोह रवाना हो गए।

सीएम को लेकर अटकलें तेज : मुख्यमंत्री के नाम को लेकर सत्तासं गठन में अटकलों का दौर चल रहा है। ऐसे मौकों पर हाईकमान की कार्यशैली हमेशा चौंकाने वाली रही है, इसलिए सत्ता-संगठन के नेता किसी नए नाम को लेकर भी आशंकित है। इस बीच मुख्यमंत्री चौहान ने एक बार फिर कहा कि मैं मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं, पद के लिए मैंने कभी काम नहीं किया। लगभग यही बात इस पद के अन्य दावेदार केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, तोमर, पटेल और विजयवर्गीय भी दोहरा चुके हैं।

राजस्थान : 15 दिसंबर को हो सकता है शपथ

ग्रहणराजस्थान के लिए भाजपा ने तीन केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सरोज पांडे और विनोद तावडे को यह जिम्मेदारी दी गई हैं। केंद्रीय पर्यवेक्षक रायशुमारी के बाद 10 या 11 दिसंबर को विधायक दल की बैठक हो सकती है। 15 दिसंबर तक राजस्थान के नए मुख्यमंत्री की शपथ भी हो सकती है। पर्यवेक्षकों की नियुक्ति के बाद शुक्रवार दोपहर राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की मुलाकात भी हो गई है।

छत्तीसगढ़: कल नए सीएम का हो सकता है ऐलान

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने छत्तीसगढ़ के लिए केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, सर्वानंद सोनोवाल और पार्टी महासचिव दुष्यंत कुमार गौतम को केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। वे शनिवार को रायपुर पहुंच सकते हैं। यहां वे विधायकों से रायशुमारी कर विधायक दल की बैठक के बाद सीएम के नाम का ऐलान कर सकते हैं। साथ ही चर्चा है कि छत्तीसगढ़ का भावी सीएम आदिवासी नहीं बल्कि सामान्य या ओबीसी वर्ग से हो सकता है।