खादी संघ ने बेचे "62 लाख के तिरंगे, पिछली बार से दोगुने

खादी संघ ने बेचे "62 लाख के तिरंगे, पिछली बार से दोगुने

ग्वालियर। राष्ट्रीय ध्वज तैयार करने वाले मध्यभारत खादी संघ ने हर घर तिरंगा अभियान के लिए 62 लाख के झंडे देशभर में सप्लाई किए हैं। छोटे से लेकर बड़े आकार तक के झंडे 200 से 2,000 रुपए तक में तैयार किए गए हैं। प्रदेश भर के खादी संघ के 300 बुनकर यह काम कर रहे हैं। सीहोर से कपास का धागा, तरीचर (टीकमगढ़) में कपड़ा की धुलाई और चाचौड़ा में कपड़ा तैयार किया जाता है। इसके बाद इसे जीवाजीगंज ग्वालियर में खादी संघ के कार्यालय पर लाया जाता है और बुनकरों द्वारा नेशनल μलैग कोड के मानकों के आधार पर राष्ट्रीय ध्वज तैयार किया जाता है।

पिछले साल 30 लाख के ध्वज बिके थे

वर्ष 2021 में 15 अगस्त के लिए 30 लाख के झंडे बिके थे, लेकिन इस बार 62 लाख तक के झंडे बिक चुके हैं। खादी संघ द्वारा ग्वालियर का बना झंडा कोलकाता तक इमारतों पर लगाने के लिए भेजा गया है। अब खादी संघ के ग्वालियर ऑफिस से ही स्थानीय स्तर पर झंडों की बिक्री हो सकेगी।

मध्यभारत खादी संघ द्वारा नेशनल फ्लैग   कोड के अनुरूप राष्ट्रीय ध्वज तैयार किए जाते हैं। तिरंगे में 24 तीलियों वाले चक्र का सबसे महत्वपूर्ण स्थान रहता है। कपड़े की धुलाई के बाद चक्र धुला हुआ नहीं दिखना चाहिए।-वासुदेव शर्मा, अध्यक्ष, मध्यभारत खादी संघ