चीतों को शाम को दिया गया मीट 1 माह तक रहेंगे क्वारेंटाइन

चीतों को शाम को दिया गया मीट 1 माह तक रहेंगे क्वारेंटाइन

ग्वालियर। नामीबिया से आए चीतों का कूनो में रविवार को दूसरा दिन था। वे अपने बाड़े में जमकर घूमे और नदी में जाकर पानी भी पीया। अभी चीतों ने शिकार नहीं किया है। रविवार शाम 4 बजे उन्हें भैंस का मीट दिया गया। फॉरेस्ट अधिकारियों ने कुछ ऐसा शेड्यूल बनाया है कि नए माहौल में यदि वे शिकार नहीं करें तो उन्हें भैंस का मीट दिया जाएगा। सीसीएफ उत्तम शर्मा ने बताया कि उन्हें एक माह तक क्वांरेटाइन रखा गया है। ये अभी शिकार नहीं करें, इसलिए भैंस का मीट खाने को दिया जा रहा है। चीतों को यह पसंद भी आ रहा है।

तेंदुए के मूवमेंट पर रख रहे हैं नजर

पांच वर्ग किलोमीटर के बाड़े के चारों और इलेक्ट्रिफाइड फेंसिंग बनाई गई है। इसके अलावा कूनो अभ्यारण्य में न सिर्फ चीते, बल्कि अन्य हिंसक जानवरों पर निगाह रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। डीएफओ/ एसडीओ के चेंबर से इसकी मॉनीटरिंग हो रही है। मॉनीटरिंग में तेंदुए के मूवमेंट पर भी नजर है।

निगरानी के लिए बनाए मचान

चीतों पर नजर रखने के लिए फॉरेस्ट ने मचान भी बनाए हैं। इन पर फॉरेस्ट कर्मचारी ड्यूटी देंगे। सीसीएफ ने बताया कि इनका उपयोग निगरानी के लिए तो होगा ही साथ ही चीतों को कोई चीज मुहैया कराना है तो उसे मचान के नीचे रखा जाएगा।