ईरान में बवाल पर अमेरिका ने कहा- बंद हो मॉरल पुलिसिंग

ईरान में बवाल पर अमेरिका ने कहा- बंद हो मॉरल पुलिसिंग

तेहरान। ईरान में हिजाब न पहनने पर पुलिस हिरासत में 22 साल की लड़की महसा अमीनी की मौत का मामला तूल पकड़ गया है। देश में अशांति का माहौल है और कई जगह प्रदर्शन हिंसक होते जा रहे हैं। इस दौरान दीवानदारेह शहर में पांच लोग मारे गए। यह ईरान के कुर्द क्षेत्र का वह हिस्सा है जहां सबसे ज्यादा विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। इसबीच मॉरल पुलिसिंग के नाम पर महिला की मौत से ईरान की अपने देश में जबर्दस्त आलोचना हो रही है। वहीं अब इस मुद्दे पर पूरी दुनिया में उसकी किरकिरी हो रही है। संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार कार्यालय ने इस मामले में जांच की बात कही है। इसके अलावा अमेरिका और इटली ने भी इस मामले को लेकर ईरान की आलोचना की है। बता दें, बीते मंगलवार को महसा को गश्ती दल पुलिस थाने लेकर गई थी। यहां पर वह बेहोश हो गई और तीन दिन के बाद उसकी मौत हो गई। हालांकि ईरानी पुलिस का कहना है कि महसा की मौत हार्ट अटैक से हुई थी। वहीं अधिकारियों ने जांच की बात कही है।

महिलाओं को बचाने खुद झेल लीं पुलिस की गोलियां

ईरान के तेहरान में हिजाब के विरोध में प्रदर्शन कर रही महिलाओं पर जब पुलिस ने शॉटगन से रंबर की गोलियां दागीं तो इस शख्स ने महिलाओं को बचाने गोलियों के वार अपनी पीठ पर झेल लिए।

संयुक्त राष्ट्र ने कहा- वीडियो की कराएंगे जांच

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार की कार्यवाहक उच्चायुक्त नदा अल नशिफ ने कहा कि ईरान में हाल के महीनों में मॉरल पुलिसिंग की घटनाएं लगातार बढ़ी हैं। इसके तहत हिजाब न पहनने के लिए महिलाओं को टारगेट किए जाने के मामले सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि कई वेरिफाईड वीडियोज में हिजाब न पहनने पर महिलाओं को चेहरे पर थप्पड़ मारा जा रहा है। इसके अलावा ढीला हिजाब पहनने पर उन्हें पुलिस की गाड़ी में ठूंस दिया जा रहा है। इटली की विदेश मंत्री ने इसे कायरानापूर्ण कार्य बताया है।

अमेरिकी विदेश मंत्री बोले- महिलाओं का उत्पीड़न बंद हो

इधर ईरान में महिलाओं पर बढ़ती हिंसा को लेकर अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने कहा कि अमीनी को आज जिंदा होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि अमेरिका और ईरान के लोग आज उनकी मौत पर अफसोस जता रहे हैं। हम ईरान सरकार से कहेंगे कि वह महिलाओं के इस उत्पीड़न को बंद करे।

पुलिस अफसर सस्पेंड, ईरानी राष्ट्रपति ने दिए जांच के आदेश

बढ़ते विरोध के बीच ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी ने गृह मंत्रालय को महसा अमीनी की मौत की जांच के आदेश दे दिए हैं और जांच के बाद दोषियों पर कार्रवाई की बात कही है। वहीं अमिनी की मौत के बाद जिम्मेदार एक पुलिस अफसर को सस्पेंड कर दिया गया। हालांकि ईरान की पुलिस तमाम आरोपों का खंडन कर रही है। पुलिस का कहना है कि महसा अमीनी की मौत हार्ट फेलियर से हुई।