पीएफआई पर फिर छापे; मप्र से 21, देश भर से 270 से अधिक को हिरासत में लिया

पीएफआई पर फिर छापे; मप्र से 21, देश भर से 270 से अधिक को हिरासत में लिया

भोपाल/नई दिल्ली। मप्र समेत कई राज्यों में मंगलवार को पॉपुलर फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआई) के ठिकानों पर छापेमारी हुई। इस दौरान संगठन से जुड़े 270 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया या गिरफ्तार किया गया। मप्र के 8 जिलों से संगठन के 21 सदस्यों को हिरासत में लिया गया। एटीएस के इनपुट पर पुलिस ने इन्हें घरों से उठाने के बाद टेरर फंडिग, ट्रेनिंग कैंप और अंतर्राज्यीय लिंक को लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। पीएफआई से जुड़े लोगों के बैंक खातों, संबंधों और युवाओं को राष्ट्रविरोधी गंतिविधियों में शामिल करने के बारे में केंद्रीय एजेंसियों से इनपुट के बाद मप्र पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई की। 22 सितंबर को भी देशभर में ऐसी कार्रवाई हुई थी। तब मप्र से चार लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

इनकी गिरफ्तारी

अब्दुल रऊफ बेलिम, इंदौर निवासी, हाल निवासी भोपाल एसडीपीआई का प्रदेश अध्यक्ष है।

अब्दुल सईद, इंदौर

तौसीफ छीपा, इंदौर

यूसुफ मोलानी, इंदौर

दानिश गौरी, इंदौर

मो. आजम नागौरी, उज्जैन

आकिब खान, उज्जैन

ईशाक खान, उज्जैन

 जुबेर अहमद, उज्जैन

शाकिर, शाजापुर

 समीउल्ला खान, शाजापुर

शहजाद बेग, राजगढ

रईस कुरैशी, सीका राजगढ़

अब्दुर रहमान, राजगढ़

मोहसिन कुरैशी, गुना

मो. शमसाद, श्योपुर

आजम इकबाल, श्योपुर

इमरान तंवर, नीमच

ख्वाजा हुसैन मंसूरी, नीमच

साहिल खान, नीमच

आशिक रंगरेज, नीमच

मप्र के मालवा - निमाड़ में फैला पीएफआई का जाल

एटीएस सूत्रों के मुताबिक अभी तक की जांच और पूछताछ में सामने आया है कि मालवा और निमाड़ में पीएफआई का जाल फैल चुका है, लेकिन बुंदेलखंड, विंध्य आदि में ज्यादा नेटवर्क नहीं है। वजह यह है कि मालवा और निमाड़ से राजस्थान या महाराष्ट्र बार्डर क्रॉस कर आना-जाना आसान होता है। छापेमारी की कार्रवाई,उत्तर प्रदेश कर्नाटक, गुजरात, दिल्ली, महाराष्ट्र, असम और मध्य प्रदेश की राज्य पुलिस ने भी की है।

22 सितंबर को मप्र से पकड़े गए थे चार सदस्य

पीएफआई के प्रदेश अध्यक्ष सहित चार लोगों को एटीएस और एसटीएफ की टीम ने 22 सितंबर की रात इंदौर और उज्जैन से पकड़ा था। एटीएस के अनुसार, पीएफआई का मकसद लोगों को भड़काकर भारत में शरिया कानून लागू करना था। इनमें पीएफआई का प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल करीम बेकरीवाला, महासचिव अब्दुल खालिद, ट्रेजरार मोहम्मद जावेद इंदौर के हैं, जबकि सचिव-जमील शेख उज्जैन का रहने वाला है। चारों 30 तक रिमांड पर हैं।