रंग थैरेपी थीम से प्रमोद ने महिलाओं को बनाया आत्मनिर्भर

रंग थैरेपी थीम से प्रमोद ने महिलाओं को बनाया आत्मनिर्भर

जबलपुर। रंगों से हमें खुशी मिलती है। रंग हमें और हमारे जीवन को खुशी देते हैं। आपने आज तक वॉटर थैरेपी, म्यूजिक थैरेपी के बारे में सुना होगा, लेकिन क्या कभी कलर थैरेपी के बारे में सुना है। कलर थैरेपी के जरिए व्यक्ति का मन और दिमाग दोनों ही शांत रहते है। यह थैरेपी शारीरिक और भावनात्मक समस्याओं को ठीक करने के लिए विभिन्न रंगों के साथ की जाती है। पेंटिंग की इसी कला को अपनाया है शहर के आर्टिस्ट प्रमोद कुशवाहा ने। उन्होंने इस विधा को अब तक 1500 लोगों को नि:शुल्क सिखाया है। प्रमोद का कहना है कि वह लड़की व महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए पेंटिंग का नि:शुल्क प्रशिक्षण देते हैं। उन्होंने अब तक 1500 से अधिक छात्रों को इस विधा में पारंगत किया है।

देश-विदेश में यहां लग चुकी है एग्जीबिशन

???? जलसा आर्ट गैलरी, मुंबई

???? संगम आर्ट गैलरी, दिल्ली

???? थाई आश्रम, थाईलैंड

???? रॉबर्ट आर्ट गैलरी, अमेरिका

???? भारत भवन, भोपाल

???? आर्ट गैलरी, मंडला

???? आर्ट गैलरी, सागर

पापा पीते थे शराब

पापा की शराब की लत ने परिवार के सभी लोगों को भूखा रहने पर मजबूर कर दिया था। गुरुजी ने हमें पहली बार देखा, तब मम्मी, भाई और मैंने 4 दिनों से खाना नहीं खाया था। उन्होंने मुझे पांचवीं क्लास में ही पेंटिंग का ब्रश थमा दिया था। आज मैं आत्मनिर्भर हूं।

छठी कक्षा से चित्रकारी

शैलजा सोनी के पिता ने शादी के बाद परिवार की जिम्मेदारियों से मुंह फेर लिया। आर्थिक तंगी से परेशान शैलजा ने भी छठी कक्षा में चित्रकारी करना शुरू कर दिया। दीप्ति और शैलजा दोनों हर महीने चित्रकला के माध्यम से 25 से 30 हजार रुपए कमाती है।

फिल्मों के बैकग्राउंड में पेंटिंग का होता है अधिक उपयोग

आर्टिस्ट बताते हैं कि उनके द्वारा बनाई गई अधिकतर पेंटिंग का उपयोग साउथ और बॉलीवुड मूवी, टेलीविजन के सीरियल के बैकग्रांउड में होता है। इसके अलावा μिलपकार्ट में अपनी इंटीरियर पेंटिंग एंड आर्ट के नाम से आॅनलाइन आॅर्डर भी लिए जाते हैं। रोजाना μिलपकार्ट से 60 से 70 पेंटिंग के आॅर्डर आते हैं। कंपनी का लाभ साल में 20 से 25 लाख हो जाता है।