प्रवासी भारतीय दुनिया में भारत के राष्ट्रदूत पीएम

प्रवासी भारतीय दुनिया में भारत के राष्ट्रदूत  पीएम

इंदौर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को इंदौर में प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन-2023 का औपचारिक उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री ने प्रवासी भारतीयों से भारत की अनूठी विश्व दृष्टि और वैश्विक व्यवस्था में उसकी महत्वपूर्ण भूमिका को मजबूत करने का आह्वान किया। उन्होंने प्रवासी भारतीयों को मेक इन इंडिया, योग और आयुर्वेद, गृह उद्योग, हस्तशिल्प तथा मोटे अनाज जैसे विषयों पर भारत का दूत बताया। उन्होंने कहा कि आज दुनिया आशा और विश्वास के साथ भारत की ओर देख रही है, इसलिए भारतवासी हमारे देश के ब्रांड एम्बेसडर के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। इस सम्मेलन में दुनियाभर के करीब 70 देशों के प्रवासी भारतीय भाग ले रहे हैं।

दुनिया में ज्ञान और कौशल का केंद्र भारत

विभिन्न क्षेत्रों में भारत की वृद्धि का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि आज भारत दुनिया में कौशल और ज्ञान का केंद्र बनने की क्षमता रखता है। भारत विश्व की शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं में है और देश में स्टार्टअप के अनुकूल सबसे बड़ा तंत्र मौजूद है। भारत तेजस और अरिहंत जैसी अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी का जनक है, इसलिए दुनिया हमारी गति तथा कौशल और हमारे भविष्य को जानने के लिए उत्सुक है। प्रधानमंत्री ने भारतवासियों से आह्वान किया कि भारत की प्रगति के साथ-साथ देश की सांस्कृतिक और अध्यात्मिक जानकारी रखें और इसे दुनिया को बताएं। मोदी ने विभिन्न देशों में भारतवासियों के संघर्ष और उपलब्धियों की गाथा संरक्षित रखने की अपील की।

भाषा, फिल्म, आईटी क्षेत्र में सूरीनाम का प्रस्ताव

इस अवसर पर, सूरीनाम के राष्ट्रपति चंद्रिका प्रसाद संतोखी ने कहा कि प्रवासी भारतीयों को अमृत काल में भारत के 25 वर्षों के विकास की रूपरेखा में शामिल किया जाना चाहिए। उन्होंने भारतवासियों के लिए भाषा, फिल्म, सूचना प्रौद्योगिकी जैसे विभिन्न विषयों पर केंद्रित संस्थान स्थापित करने का भी प्रस्ताव दिया। संतोखी ने कहा कि मां और मातृभूमि स्वर्ग से बढ़कर हैं और भारत के स्वच्छतम शहर इंदौर में मिले प्रेम, सम्मान और सत्कार ने इस अनुभूति को साकार कर दिया।

राष्ट्रपति करेंगी समापन

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु 10 जनवरी को इंदौर में सम्मेलन का समापन करेंगी। ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में सम्मेलन के समापन समारोह में राष्ट्रपति, प्रवासी भारतीय सम्मान पुरस्कार प्रदान करेंगी। विदेश राज्य मंत्री डॉ.वी मुरलीधरन आभार व्यक्त करेंगे।

हम भारत से मानव प्रबंधन सीख रहे हैं : गुयाना

गुयाना के राष्ट्रपति मोहम्म इरफान अली ने प्रधानमंत्री मोदी की ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ की नीति की सराहना की और कहा कि उनका देश मानव संसाधन प्रबंधन के लिए भारत की मानवतावादी पहल से बहुत कुछ सीख रहा है। कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की। पीएम मोदी से कहा कि आपने गुयाना का दौरा किया था, तब आप मुख्यमंत्री थे। हम आशा करते हैं कि इस साल के अंत से पहले आपके गुयाना दौरे का सौभाग्य हमें प्राप्त होगा।

प्रधानमंत्री ने ज्ञान, आत्मनिर्भरता को समझा और लागू किया है : शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सशक्त और संपन्न भारत के लिए निरंतर प्रयास किए हैं। प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भरता, स्वच्छता और मजबूत अर्थव्यवस्था के मंत्र दिए हैं। मध्यप्रदेश में उनके मंत्र को जमीन पर उतारा जा रहा है। उनके स्वच्छता के आह्वान को तो इंदौर ने ऐसा स्वीकारा है कि एक-एक नागरिक ने झाड़ू उठा ली। इंदौर एक-दो बार नहीं, पूरे छह बार देश का सबसे साफसुथरा शहर बना है। पीएम ने ज्ञान, आत्मनिर्भरता को समझा और लागू किया है। नागरिक होने के नाते इसमें सभी सहयोगी बनें। आज स्वामी विवेकानंद के शब्द याद आते हैं, जब उन्होंने 100 साल पहले कहा था कि महानिशा का अंत निकट है। अब भारत माता अंगड़ाई लेकर विश्व को नेतृत्व देने आगे बढ़ रही है। भारत विश्व में नेतृत्वकारी भूमिका में आगे आया है। वे दिलों पर राज करते हैं।