मप्र में प्री मानसून एक्टीविटी शुरू 12 जिलों में बारिश की संभावना

मप्र में प्री मानसून एक्टीविटी शुरू 12 जिलों में बारिश की संभावना

भोपाल। मप्र में प्री मानसून एक्टिविटी शुरू हो गई है। रविवार को ग्वालियर, चंबल, सागर, रीवा, शहडोल और जबलपुर संभागों के जिलों में कहीं- कहीं बारिश दर्ज की गई। तेज हवा और गरज-चमक के साथ रीवा और उमरिया में 2-2 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। मौसम विभाग ने आने वाले 24 घंटों में रीवा, सागर और चंबल संभागों के जिलों सहित 12 से ज्यादा जिलों में तेज गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने एवं बिजली गिरने की संभावना जताई है। हालांकि, आंधी-बारिश ने गर्मी से राहत दी है। तेज हवाओं से रविवार को प्रदेश के ज्यादातर शहरों का तापमान 44 के नीचे आ गया। सबसे ज्यादा 43.8 डिग्री तापमान सिवनी में रिकॉर्ड किया गया। मप्र में 15 जून तक आ सकता है मानसून : मौसम विभाग के मुताबिक मानसून केरल तट तक 27-28 मई तक पहुंचने की संभावना है। ऐसे में मध्यप्रदेश में 13 से 15 जून के बीच मानसून एंट्री कर सकता है। अगर मानसून सही वक्त पर आता है, तो 20 जून तक मानसून समूचे प्रदेश को कवर कर लेगा।

वजह : अरब सागर, बंगाल की खाड़ी से आ रही नमी

मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बने साइक्लोन के कारण मानसून की गतिविधियां बढ़ गई हैं। इससे मानसून अंडमान निकोबार में वक्त से पहले आ चुका है। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से नमी आने लगी है, जबकि पाकिस्तान से हवाओं के आने के कारण बारिश की गतिविधियां बढ़ गई हैं। इधर, पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी पाकिस्तान के ऊपर चक्रवातीय गतिविधियों के रूप में ट्रफ के साथ है। पश्चिमोत्तर राजस्थान के ऊपर भी चक्रवात सक्रिय है। अभी दिन और रात के तापमान में गिरावट होगी।