एमपी बोर्ड के 609 बच्चों का रुका है रिजल्ट, दस्तावेज जमा नहीं हुए तो निरस्त होगी परीक्षा

एमपी बोर्ड के 609 बच्चों का रुका है रिजल्ट, दस्तावेज जमा नहीं हुए तो निरस्त होगी परीक्षा

भोपाल। एमपी बोर्ड की कक्षा 10वीं एवं 12वीं के 609 विद्यार्थियों का भविष्य अधर पर लटका हुआ है, इनके रिजल्ट अब भी होल्ड पर हैं। इन विद्यार्थियों के यदि दस्तावेज मंडल में जमा नहीं हुए तो परीक्षा निरस्त कर दी जाएगी। इनमें अधिकांश विद्यार्थी दूसरे राज्य या अन्य बोर्ड के हैं। जिन स्कूलों में यह पढ़ रहे थे, उन स्कूलों ने अभी तक विद्यार्थियों के पात्रता दस्तावेज जमा नहीं किए हैं। इसके अलावा कुछ विद्यार्थी ऐसे भी हैं, जो एमपी बोर्ड के हैं, उनके भी कई दस्तावेज जमा नहीं हुए हैं। कुल मिलाकर स्कूल प्रबंधन की गलतियों का खामियाजा स्टूडेंट्स को भुगतना पड़ सकता है। दस्तावेज जमा नहीं करने वाले विद्यार्थियों को मंडल ने दस्तावेज जमा करने के लिए फिलहाल 28 मई तक एक और मौका दिया है। स्कूलों के पास विद्यार्थियों के दस्तावेज और आंतरित मूल्यांकन के अंक जमा करने के लिए दो दिन का समय बचा है। यह सुविधा केवल ऐसे विद्यार्थियों के लिए दी गई है, जिन्होंने आखिरी तारीख तक दस्तावेज जमा नहीं किए हैं। मंडल ने स्पष्ट किया है कि पात्रता के अभाव में पूर्व में निरस्त प्रकरणों को इसमें शामिल नहीं किया गया है।

10वीं के 357 व12वीं के 252 छात्रों के रुके रिजल्ट

मालूम हो कि एमपी बोर्ड ने 10वीं एवं 12वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम 29 अप्रैल को घोषित किया था। 10वीं कक्षा में 59.54 प्रतिशत व बारहवीं में 72.72 फीसदी विद्यार्थी पास हुए थे। दसवीं बारहवीं में 17 लाख 27 हजार विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी। इसमें 4.75 लाख विद्यार्थी फेल हुए, जबकि 1.96 लाख को सप्लीमेंट्री मिली है। वहीं 10वीं के 357 और 12वीं के 252 स्टूडेंट्स ऐसे हैं , जिनके अंकों की पुष्टि न होने ने कारण रिजल्ट रोक दिए गए हैं।

अब विशेष परिस्थिति में अनुमति

स्कूल संचालकों को अनेक बार पत्र भेजने के बाद भी अभी तक छात्रों के दस्तावेज नहीं भेजे गए हैं। छात्र हित में मंडल ने अनेक मौके दिए हैं, 28 मई तक आखिरी मौका है। उसके बाद कार्रवाई की जाएगी। अब विशेष परिस्थिति में ही दस्तावेज जमा करने के लिए अतिरिक्त समय दिया जाएगा। -श्रीकांथ बनोठ, सचिव, एमपी बोर्ड