री डिजाइनहोंगे क्लास रूम, ऑड -ईवन फार्मूले पर आएंगे स्टूडेंट्स सेनेटाइजेशन बूथ जरूरी

री डिजाइनहोंगे क्लास रूम, ऑड -ईवन फार्मूले पर आएंगे स्टूडेंट्स सेनेटाइजेशन बूथ जरूरी

I AM BHOPAL ।   जुलाई से यदि स्कूल शुरू होते हैं तो स्कूल किस तरह डिजाइनिंग और हाइजीन लेवल पर बदलाव लाएंगे इस बारे में चर्चाएं शुरू हो चुकी हैं। एनसीईआरटी को मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) ने गाइडलाइंस बनाने को कहा है। भोपाल में स्कूल्स प्रिंसिपल्स का कहना है कि पांचवीं तक के स्टूडेंट्स की क्लासेस जुलाई के बाद ही शुरू होना चाहिए, क्योंकि जुलाई तक केसेस बढ़ने की खबरें आ रही हैं। इस बीच स्कूल्स कोरोना के साथ स्कूल शुरू करने की प्लानिंग पर भी काम शुरू करने जा रहे हैं। स्कूलों की कक्षाओं में सोशल डिस्टेंस, यूनीफार्म कोड में बदलाव के साथ ही सेनेटाइजेशन को रेगुलर प्रोसीजर में शामिल करने का विचार हैं। छोटी कक्षाओं को रखेंगे बंद स्कूल जब भी खुलेंगे तो हो सकता है कि स्कूल की सभी कक्षाओं को न लगाया जाए। सिर्फ सीनियर कक्षाओं को ही संचालित किया जाए। सभी कक्षाओं को संचालित करने पर सामाजिक दूरी का पालन कठिन हो जाएगा। जिसके लिए विचार विमर्श किया जा रहा है।

स्कूल री-ओपन होने पर इस तरह के अरेंजमेंट्स करना होंगे स्कूल मैनेजमेंट को

 स्कूल में एंट्री लेवल पर सेनेटाइजर बूथ लगाना होगा, ताकि एंट्री पर ही हर स्टूडेंट सेनेटाइज होकर स्कूल में प्रवेश करें। ऐसा ही छुट्टी के समय भी होना चाहिए। क्लासरूम के बाहर शू रैक हो ताकि क्लासरूम में खतरा न पहुंचे। स्कूल में इस्तेमाल की जाने वाली स्टेशनरी स्कूल में ही रहना चाहिए ताकि वो स्टूडेंट्स के जाने के बाद सेनेटाइज कर दी जाए। कम से कम बुक्स और कॉपी टच करना पड़े इसके लिए वर्कशीट पर इस्तेमाल बढ़ना चाहिए। रेगुल थर्मल स्क्रीनिंग स्कूल एंट्री के समय हो। स्टूडेंट्स के लंच-ब्रेक अलग- अलग समय पर किए जाएं ताकि क्लासरूम के बाहर क्राउड न हो। हर तीन बैच की सॉल्यूशन से क्लीनिंग हो।

 स्टूडेंट्स के लिए एसेंबली न हो या हर दिन बदल कर हो

अभी तक स्कूलों के मैदान में बच्चे एक साथ खड़े होकर प्रार्थना करते रहे हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा कम संख्या में ही बच्चे प्रार्थना सभा में शामिल होंगे। स्कूल में सेंसर बेस्ड नल लगाने होंगे ताकि स्टूडेंट्स को उन्हें छूना न पड़े। सभी को बॉटल अनिवार्य की जाएगी। - पंकज शर्मा, प्रिंसिपल , एसपीएस

 बिना अपॉइंटमेंट बाहरी व्यक्ति को नहीं आने देंगे 

स्कूल का कैंपस बहुत बड़ा है तो सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो हो सकती है। स्कूल में एक ही एंट्री पाइंट रखेंगे और बाहरी व्यक्ति को बिना अपाइंटमेंट नहीं आने देंगे ताकि हर व्यक्ति का रिकॉर्ड रहे इससे उनकी हिस्ट्री कलेक्ट होती रहेगी। -एथेनक्स लकरा, प्रिंसिपल, कैंपियन स्कूल