देश के 26 ग्रीन हाईवे पर सैटेलाइट से होगी टोल वसूली नहीं चुकाने पर सजा का प्रावधान

देश के 26 ग्रीन हाईवे पर सैटेलाइट से होगी टोल वसूली नहीं चुकाने पर सजा का प्रावधान

नई दिल्ली। देश में सैटेलाइट बेस्ड टोल टैक्स वसूली 2024 से शुरू हो जाएगी। इसमें वाहन की नंबर प्लेट के माध्यम से टोल वसूलने की तैयारी है। यह बात केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को राज्यसभा में कही। उन्होंने कहा- 2024 से पहले देश में 26 ग्रीन एक्सप्रेस हाईवे शुरू कर दिए जाएंगे। इससे सड़क के मामले में हम अमेरिका से पीछे नहीं रहेंगे। गडकरी ने कहा कि एडवांस्ड टेक्नोलॉजी से टोल वसूली में सुधार की पूरी गुंजाइश है। इससे कोई व्यक्ति न तो टोल की चोरी कर सकता है और न ही कोई बच सकता है। टोल चोरी पर सजा का कानून भी संसद में लाएंगे।

अभी टोल न चुकाने पर सजा का प्रावधान नहीं

गडकरी ने कहा कि अब तक टोल नहीं देने पर सजा का प्रावधान नहीं है। इसके मद्देनजर संसद में विधेयक लाने की प्रक्रिया जारी है। विधेयक लाने के बाद 6 महीने के भीतर देश में यह व्यवस्था लागू करने की पूरी कोशिश की जा रही है। इससे न तो टोल प्लाजा बनाने की जरूरत होगी और न ही कोई व्यक्ति लगाना पड़ेगा। निर्माताओं से वाहनों में जीपीआरएस सुविधा भी उपलब्ध कराने को कहा गया है।

फास्टैग सिस्टम अभी भी पूरी तरह प्रभावी नहीं

5 लाख करोड़ की लागत से हर साल सड़क निर्माण की क्षमता।

120 करोड़ की टोल वसूली हो रही प्रतिदिन देश में।

97 प्रतिशत लोग फास्टैग का इस्तेमाल कर रहे।

67 प्रतिशत लोग ही इस सिस्टम से टोल चुका रहे। 33प्रतिशत लोग कैश के जरिये टोल चुका रहे हैं।