साहीवाल के भ्रूण से सुपर मॉम ने अब तक 10 बच्चों को दिया जन्म

साहीवाल के भ्रूण से सुपर मॉम ने अब तक 10 बच्चों को दिया जन्म

जबलपुर। गोवंश बढ़ाने की दिशा में काम कर रही प्रदेश की एक मात्र यूनिवर्सिटी नानाजी देशमुख वेटरनरी साइंस के डेयरी फार्म की साहीवाल प्रजाति की टैग नंबर-54 की गाय को सुपर मॉम का दर्जा दिया गया है। साहीवाल प्रोजेक्ट के प्रिंसिपल इन्वेस्टीगेटर डॉ. एपी सिंह ने बताया कि विवि के कुलपति प्रो. डॉ. एसपी तिवारी के निर्देशन में प्रोजेक्ट के अंतर्गत डेयरी फार्म में टैग नंबर-54 की गाय से एम्ब्रियो टेक्निक के जरिये अब तक 10 भ्रूण अवर्णित गायों की कोख (सरोगेट मदर) में प्रत्यारोपित किए जा चुके हैं। इन सभी गायों से स्वस्थ बच्चे जन्मे हैं। अब तक कुल 15 बच्चों का जन्म हुआ है। इनमें अकेले 10 बच्चे (साहीवाल) के टैग नंबर-54 वाली गाय के हैं।

नंबर-54 की गाय ही क्यों

डॉ. एपी सिंह बताते हैं कि विवि के डेयरी फार्म में 30 साहीवाल गोवंश हैं। इनमें 10 सबसे हेल्दी थे। लेकिन सबसे ज्यादा दुग्ध उत्पादन क्षमता टैग नंबर-54 वाली गाय की थी। इसलिए इसे सबसे पहले चुना है।

12 बछिया अधिक जन्मीं

डॉ. सिंह ने बताया कि अब तक 15 बच्चों में 12 बछिया और 3 बछड़े हैं। यह विश्वविद्यालय का ही प्रोजेक्ट है। इस पर अगस्त 2020 से भ्रूण प्रत्यारोपण पर काम करना शुरू किया गया था।

पांच गोशालाओं से लाए

यूनिवर्सिटी ने नगर निगम के साथ निजी गोशालाओं से कुल 28 अवर्णित गोवंश लिया। इनका स्वास्थ्य परीक्षण कर पूरी प्रक्रिया की गई। दयोदय, शहपुरा, गोसलपुर, रामपुर व नगर निगम की एक गोशाला से गौवंश लाए।

क्या होती है अवर्णित गाय

पशु वैज्ञानिकों के मुताबिक, दुग्ध उत्पादन नहीं कर पाने वाली गायों को अवर्णित गाय कहा जाता है। ऐसी गायों को किसान, पशुपालक सड़कों पर विचरण के लिए छोड़ देते हैं। इन्हें वीयू लेकर आया है।

क्या कहते है कुलपति

प्रदेश में गोवंश संरक्षण को लेकर विवि के पशु वैज्ञानिक काम कर रहे हैं। अवर्णित गाय की कोख में साहीवाल के भ्रूण का प्रत्यारोपण और इसके बाद स्वस्थ बच्चों का जन्म हमारे लिए सबसे बड़ी उपलब्धि है। सीमित संसाधनों में वैज्ञानिकों की टीम ने यह कर दिखाया है। लगातार इस पर काम किया जा रहा है। - प्रो. डॉ. एसपी तिवारी, विवि के कुलपति