देश में पहली बार तिरंगा फहराया, तबसे ही संघ उसके सम्मान से जुड़ा

देश में पहली बार तिरंगा फहराया, तबसे ही संघ उसके सम्मान से जुड़ा

भोपाल। सोशल मीडिया की डीपी पर तिरंगा न लगाने को लेकर आरएसएस पर पिछले कई दिनों से सवाल उठ रहे हैं। इस बीच संघ प्रमुख डॉ. मोहन भागवत का एक पुराना वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में भागवत कह रहे हैं कि देश में जब पहली बार तिरंगा फहराया गया तबसे संघ का हर स्वयंसेवक उसके सम्मान से जुड़ा है। 4 साल पुराने इस वीडियो के कुछ अंश भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किए हैं। इसमें भागवत कह रहे हैं कि स्वतंत्र भारत में देश का ध्वज चयन करने के लिए μलैग कमेटी ने भगवा ध्वज को ही राष्ट्रध्वज बनाने का सुझाव दिया था, लेकिन बाद में परिवर्तन हुआ और तिरंगा ध्वज आ गया। तिरंगा हमारा राष्ट्रध्वज है। उसके प्रति हम पूर्ण सम्मान रखते हैं। भागवत कहते हैं कि आज भी शाखाओं में भगवा लगाए जाने को लेकर सवाल उठते हैं, लेकिन तिरंगे के जन्म से ही संघ उसके सम्मान से जुड़ा हुआ है। 1931 की बात है, जब कांग्रेस ने लाहौर अधिवेशन में पहली बार संपूर्ण स्वतंत्रता का प्रस्ताव पारित किया तब तत्कालीन संघ प्रमुख डॉ. हेडगेवार ने सर्कुलर निकाला था कि हम लोग तिरंगा के साथ संचलन निकालें।

वीडियो में तिरंगे से जुड़ा रोचक किस्सा भी बताया

भागवत ने तिरंगे से जुड़ा एक रोचक किस्सा भी शेयर किया। बताया कि जब पहली बार कांग्रेस के अधिवेशन में तिरंगा फहराया गया तो 80 फीट ऊंचे ध्वज स्तंभ पर तिरंगा बीच में ही अटक गया। इतने ऊंचे स्तंभ पर चढ़कर उसे सुलझाने का साहस किसी में नहीं था। तभी भीड़ में से एक बालक तेजी से आगे आया और फुर्ती से ध्वज स्तंभ पर चढ़ गया। उसने रस्सियां सुलझा दीं और ध्वज को ऊपर पहुंचा दिया। सभी ने उस बालक को कंधों पर उठा लिया। नेहरू जी ने भी उसकी पीठ ठोकी और बोले कि तुम शाम को अधिवेशन में आओ, तुम्हारा अभिनंदन करेंगे। इस पर कुछ लोगों ने नेहरूजी को कहा कि उसे मत बुलाओ वह शाखा में जाता है। वह बालक संघ के स्वयं सेवक किशन सिंह राजपूत थे। कुछ वर्ष पहले ही उनका निधन हुआ है।

मोदी ने की है डीपी में तिरंगा लगाने की अपील

तिरंगे को लेकर भागवत के इस बयान की टाइमिंग भी महत्वपूर्ण है। यह वीडियो ऐसे समय आया है, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजादी के अमृत महोत्सव को देखते हुए सभी भाजपाइयों से डीपी में तिरंगा लगाने की अपील की है। हालांकि, संघ के नेताओं ने अभी तक सोशल मीडिया पर डीपी में तिरंगा नहीं लगाया है।