संकट का सैन्य समाधान नहीं हो सकता

संकट का सैन्य समाधान नहीं हो सकता

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के साथ टेलीफोन पर बातचीत की है। दोनों नेताओं ने यूक्रेन में चल रहे संघर्ष पर चर्चा की है। मोदी ने संघर्ष को जल्द खत्म करने और बातचीत व कूटनीति के रास्ते पर चलने की बात दोहराई है। मोदी ने कहा कि संघर्ष का कोई सैन्य समाधान नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि भारत यूक्रेन और रूस के बीच शांति स्थापित करने को लेकर अपनी तरह से हरसंभव मदद करने को तैयार है। मोदी और जेलेंस्की के बीच यह बातचीत मोदी की शंघाई सहयोग संगठन की शीर्ष बैठक के दौरान रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के साथ हुई द्विपक्षीय मुलाकात के ढाई हते बाद हुई है। उस बैठक में मोदी ने पुतिन से दो टूक कहा था कि यह युग युद्ध का नहीं है। मोदी ने यूक्रेन के राष्ट्रपति से यूक्रेन स्थिति व अन्य सभी परमाणु संयंत्रों की सुरक्षा को भारत बहुत ही महत्व देता है। परमाणु प्रतिष्ठानों को नुकसान होने के काफी दूरगामी परिणाम हो सकते हैं। इसका सार्वजनिक स्वास्थ्य और पर्यावरण पर भी काफी प्रलयकारी असर हो सकता है।

रूसी मंत्री का दावा- दो हμते में 2 लाख लोगों की सेना में हुई भर्ती

इधर रूसी रक्षामंत्री सर्गेई शोइगु ने कहा है कि राष्ट्रपति पुतिन के आदेश के बाद दो हते के भीतर दो लाख से अधिक लोग रूस की सेना में शामिल हुए हैं। यूक्रेन के चार बड़े इलाकों पर आधिकारिक कब्जे के बाद दोनों देशों के बीच तनाव और बढ़ गया है। वहीं पुतिन ने मोबिलाइजेशन का आदेश दिया है। इसके तहत करीब तीन लाख लोगों को मोर्चे पर लगाया जाएगा।

इधर चेचेन कमांडर रूस की ओर से अपने नाबालिग बेटों को लड़ने भेजेंगे : पुतिन के वफादार और चेचन्या के नेता रमजान कादिरोव ने कहा कि वह यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में अपने तीनों नाबालिग बेटों को रूस की तरफ से मोर्चे पर भेज रहे हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पोस्ट में कहा कि हमारी मातृभूमि की रक्षा के लिए उम्र आड़े नहीं आनी चाहिए। उनके बेटों अखमत (16), अली (15) और एडम (14) ने काफी पहले ही सैन्य प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया था। मेरा मानना है कि किसी भी पिता का मुख्य उद्देश्य अपने बच्चों में धर्म को लेकर जुनूनी बनाना और परिवार, अपने लोगों और देश की रक्षा करना सीखाना है। अगर आप शांति चाहते हैं तो युद्ध के लिए तैयार रहें। बता दें, चेचन्या रूस की दक्षिणी सीमा पर स्थित है।

मस्क ने की शांति की अपील, जेलेंस्की ने घेरा

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने ट्विटर पर रूस-यूक्रेन युद्ध खत्म करने और शांति की सलाह दी। उनकी इस हरकत पर यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की सहित यूक्रेनी अधिकारियों ने उन्हें घेर लिया और ट्वीट के जरिये कड़ी प्रतिक्रिया दी। मस्क ने अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से यूक्रेन में रूसी कार्रवाइयों को समाप्त करने को लेकर एक ट्विटर पोल करने की कोशिश की थी। उन्होंने युद्ध को खत्म करने के लिए कई तरह के विचार रखे और अपने फॉलोअर्स से उनके सुझावों पर हां या नहीं में वोट करने के लिए कहा, जिसमें औपचारिक रूप से रूस को क्रीमिया पर कब्जा करने की अनुमति शामिल थी।