21 दिन में विदेश यात्रा की, शरीर पर चकत्ते हैं तो माना जाएगा मंकीपॉक्स का संदिग्ध

21 दिन में विदेश यात्रा की, शरीर पर चकत्ते हैं तो माना जाएगा मंकीपॉक्स का संदिग्ध

नई दिल्ली। देश में मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों के बीच इस बीमारी से निपटने को लेकर गाइडलांस पर पुनर्विचार करने के लिए केंद्र ने गुरुवार को शीर्ष स्वास्थ्य विशेषज्ञों के साथ बैठक की। देश में मंकीपॉक्स के अब तक 9 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से एक की मौत हो चुकी है। बैठक की अध्यक्षता आपात चिकित्सा राहत के निदेशक डॉ. एल. स्वस्तिचरण ने की। केंद्र द्वारा जारी नए निर्देशों के अनुसार, अगर किसी व्यक्ति ने पिछले 21 दिनों के भीतर प्रभावित देशों की यात्रा की है और उसके शरीर पर लाल चकत्ते पड़ने, लसिका ग्रंथियों में सूजन, बुखार, सिर में दर्द, शरीर में दर्द और बहुत ज्यादा कमजोरी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं तो उसे संदिग्ध माना जाएगा। डब्ल्यूएचओ ने हाल में मंकीपॉक्स को वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थिति घोषित किया था।

गुजरात में मंकीपॉक्स का पहला संदिग्ध मरीज

इधर गुजरात में मंकीपॉक्स का पहला संदिग्ध मामला सामने आया है और एक व्यक्ति में इस वायरल संक्रमण के लक्षण दिखे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि संदिग्ध व्यक्ति के नमूनों को जांच के लिए भेज दिया गया है। एमपी शाह राजकीय मेडिकल कॉलेज की डीन डॉक्टर नंदिनी देसाई ने कहा कि जामनगर जिले के नागना गांव के निवासी 29 वर्षीय रोगी को फिलहाल अस्पताल में बनाए गए विशेष वार्ड में भर्ती किया गया है।