टाइप 2 डायबिटीज से कैंसर समेत 57 गंभीर बीमारियों का खतरा

टाइप 2 डायबिटीज से कैंसर समेत 57 गंभीर बीमारियों का खतरा

लंदन। जिन लोगों को टाइप-2 डायबिटीज की बीमारी है, उनको सेहत से जुड़ी 57 दूसरी गंभीर परेशानियों का भी खतरा बना रहता है, जिसमें कैंसर, किडनी की बीमारी, न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम अहम है। इसका खुलासा एक स्टडी में किया गया है। दुनियाभर के करोड़ों लोगों को मधुमेह की शिकायत है, जिसका संबंध मोटापे से है और कई लोगों को जेनेटिक वजहों से इस दिक्कत का सामना करना पड़ता है। दुनियाभर में मिडिल एज के लोगों पर किए गए रिसर्च के अनुसार टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित और मधुमेह से मुक्त लोगों पर अध्ययन किया गया। वैज्ञानिकों ने पाया कि इन लोगों को 57 ऐसी बीमारियों को खतरा है, जो लंबे वक्त तक परेशान कर सकती हैं।

116 बीमारियों पर किया गया शोध

वैज्ञानिकों के मुताबिक इस रिसर्च के नतीजे चौंकाने वाले हैं। जिन लोगों को टाइप-2 डायबिटीज नहीं, वो इस खतरे को पहले ही पहचान लें और इसे होने से रोक दें। इस स्टडी को डायबिटीज यूके प्रोफेशनल कॉन्फें्रस में प्रेजेंट किया गया। यूके बायोबैंक और जीपी रिकॉर्ड से करीब 30 लाख लोगों का डाटा जुटाया गया। खास तौर से उन 116 बीमारियों पर स्टडी की गई, जो मिडिल एज के लोगों को होती हैं।

कैंसर का खतरा 9 फीसदी तक ज्यादा

शोध में पाया गया कि जिनको टाइप-2 डायबिटीज है, उन्हें 57 दूसरी बीमारियों का खतरा तो है ही, लेकिन 9 फीसदी कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों को किडनी की बीमारी की आखिरी स्टेज की बीमारी का खतरा 5.2 गुना ज्यादा होता है। इसके अलावा लिवर कैंसर का 4.4 गुना और मस्क्यूलर डीजेनेरेशन का 3.2 गुना ज्यादा खतरा रहता है।

मिडिल एज ग्रुप के लोग हो जाएं सतर्क

टाइप-2 डायबिटीज से बचाव बहुत जरूरी है, क्योंकि ये मिडिल एज के लोगों को काफी परेशान करता है। नॉन इंसुलिन डिपेंडेंट डायबिटीज (टाइप-2) से सतर्क रहने से इसके खतरे को कम किया जा सकता है। - डॉ. लुआनलुआन सुन, पूर्व क्लीनिकल एपिडेमियोलोगिस्ट, कैंब्रिज यूनिवर्सिटी